हल्द्वानी-प्रवासियों को यहां क्वारंटीन करेंगी सरकार, देखिये देशभर में फंसे 1.37 लाख उत्तराखंडियों का राज्य बार आंकड़ा

हल्द्वानी-आज जारी सरकार द्वारा ऑनलाइन वेबसाइट पंजीकरण के डाटा के बाद पूरे देश भर में अभी तक 1.37 लाख लोगों ने उत्तराखंड आने के लिए आवेदन किया है। जो एक बड़ा आंकड़ा है। यह आंकड़ा पिछले करीब तीन दिन का है। वहीं उत्तराखंड से जाने वालों के लिए वेबसाइट को शुरू कर दिया गया है।
 | 
हल्द्वानी-प्रवासियों को यहां क्वारंटीन करेंगी सरकार, देखिये देशभर में फंसे 1.37 लाख उत्तराखंडियों का राज्य बार आंकड़ा

हल्द्वानी-आज जारी सरकार द्वारा ऑनलाइन वेबसाइट पंजीकरण के डाटा के बाद पूरे देश भर में अभी तक 1.37 लाख लोगों ने उत्तराखंड आने के लिए आवेदन किया है। जो एक बड़ा आंकड़ा है। यह आंकड़ा पिछले करीब तीन दिन का है। वहीं उत्तराखंड से जाने वालों के लिए वेबसाइट को शुरू कर दिया गया है। आप अगर दूसरे राज्य से उत्तराखंड आना चाहते है या उत्तराखंड से दूसरे राज्यों में जाना चाहते है इसके लिए आपकों वेबसाइट पर पंजीकरण कराना अनिवार्य है बगैर पंजीकरण आपको लाया या पहुंचाया नहीं जा सकेगा।

Bansal Saree

हल्द्वानी-प्रवासियों को यहां क्वारंटीन करेंगी सरकार, देखिये देशभर में फंसे 1.37 लाख उत्तराखंडियों का राज्य बार आंकड़ा

कोरोना वायरस के बाद पूरे देश में लॉकडाउन लग गया ऐसे में रविवार रात करीब 3 बजे तक की रिपोर्ट वेबसाइट से जारी की गई है। जिसमें उत्तराखंड के 1.37 लाख लोग दूसरे राज्यों में फंसे हैं। ये सभी उत्तराखंड आना चाहते है। हैरानी की बात यह है कि अकेले दिल्ली से 40 हजार लोग घर आने के लिए आवेदन कर चुके है।जिमसें हजारों लोग अपने वाहन तो हजारों लोग बसों और ट्रेनों से लाये जायेंगे।

Devi Maa Dental

आंकड़ों से साफ है देश के अंडमार निकोबार से लेकर कन्या कुमारी तक उत्तराखंड का युवा पहुंचा हुआ है। अकेले कुमाऊं की बात करें तो करीब 20 हजार से ऊपर कुमाऊं के लोग पहाड़ लौटना चाहते है। सबसे ज्यादा दिल्ली, महाराष्ट, हरियाणा और यूपी में उत्तराखंड के लोगों फंसे है। इनकी संख्या हजारों में है। अब सरकार के लिए इन्हें लाने कोई चुनौती से कम नहीं है। सूचना है कि गांव लौटने के बाद इन लोगों को गांव के नजदीक के स्कूल, पंचायत घर, बारातघर में 14 दिनों के लिए क्वारंटान किया जाएगा। ग्राम प्रधान व ग्राम प्रहरी को इसके लिए निर्देश दिए जा रहे हैं। कई ग्राम प्रधानों से उनके नजदीकी भवनों की जानकारी जुटाई जा रही है।