यूपी के पूर्व सीएम का भाजपा पर तीखा हमला- क्या कहा अखिलेश यादव ने जानिए इस खबर में….

न्यूज टुडे नेटवर्क। समाजवादी पार्टी के मुखिया और प्रदेश पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा की डबल इंजन की सरकार लोकतंत्र को रौंदने में जुटी हुई है। लोगों के मौलिक अधिकारों को ताक पर रख दिया गया है। भाजपा प्रशासन के साथ मिलकर धांधली से मतदाता के अधिकार पर एकाधिकार करना चाहता
 | 
यूपी के पूर्व सीएम का भाजपा पर तीखा हमला- क्या कहा अखिलेश यादव ने जानिए इस खबर में….

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। समाजवादी पार्टी के मुखिया और प्रदेश पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा की डबल इंजन की सरकार लोकतंत्र को रौंदने में जुटी हुई है। लोगों के मौलिक अधिकारों को ताक पर रख दिया गया है। भाजपा प्रशासन के साथ मिलकर धांधली से मतदाता के अधिकार पर एकाधिकार करना चाहता है। बिहार चुनावों के नतीजे आने के बाद अखिलेश ने भाजपा पर तीखा हमला बोलते हुए यह बयान दिया है।

Devi Maa Dental

अध्‍यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने बुधवार को अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को आगाह करते हुए आरोप लगाया कि भाजपा की डबल इंजन सरकार लोकतंत्र को ‘रौंदने’ में लगी है। उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय जनता पार्टी की डबल इंजन सरकार लोकतंत्र को रौंदने में लगी है। मतदान में धांधली से मतदाता के अधिकार पर चोट पहुँचती है और इससे लोकतंत्र की पवित्रता नष्ट होती है। हमें इन स्थितियों के प्रति सावधान रहना है। अखिलेश राजधानी के सपा मुख्‍यालय में विभिन्‍न जिलों से आये कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे।

यादव ने उत्तर प्रदेश के उपचुनावों में समर्थन देने वाले मतदाताओं के प्रति आभार जताया है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से संयम और निष्ठा से काम करने, समाजवादी सरकार के कामों एवं समाजवादी पार्टी की नीतियों को घर-घर पहुंचाने के लिए सक्रिय होने का आहवान किया। यादव ने कहा, पार्टी को बूथस्तर तक मजबूती देकर ही हम झूठ, फरेब और धांधली की राजनीति का मुकाबला कर सकेंगे। हमारा एजेंडा प्रदेश के सर्वतोमुखी विकास का है और इसके लिए सन् 2022 में समाजवादी सरकार बनाना आवश्यक है।

Bansal Saree

उन्‍होंने कहा, भाजपा के कामकाज से निराशा और उसकी नीतियों से देश में अविश्वास व्याप्त हुआ है। समाज में परस्पर विद्वेष को बढ़ावा दिया गया है। संविधान की शपथ के विरूद्ध भाजपा सरकार रागद्वेष की भावना से काम करती है। इसके विपरीत समाजवादी पार्टी की नीतियाां जनहित और सर्वतोमुखी विकास पर बल देती है।