बरेली: बुखार के मरीजों को दी जा रही पैरासिटामाल का नमूना फेल

न्यूज टुडे नेटवर्क। बरेली जिले के सरकारी अस्पतालों में बुखार के मरीजों को दी जा रही पैरासिटामोल ड्रग विभाग के मानकों पर खरी नहीं उतरी। इस बात का खुलासा ड्रग विभाग की प्रयोगशाला में हुई जांच के आधार पर हुआ है। इस आधार पर ड्रग इंस्पेक्टर ने सरकारी अस्पतालों में घटिया पैरासिटामोल की आपूर्ति और
 | 
बरेली: बुखार के मरीजों को दी जा रही पैरासिटामाल का नमूना फेल

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। बरेली जिले के सरकारी अस्पतालों में बुखार के मरीजों को दी जा रही पैरासिटामोल ड्रग विभाग के मानकों पर खरी नहीं उतरी। इस बात का खुलासा ड्रग विभाग की प्रयोगशाला में हुई जांच के आधार पर हुआ है।

Devi Maa Dental

इस आधार पर ड्रग इंस्पेक्टर ने सरकारी अस्पतालों में घटिया पैरासिटामोल की आपूर्ति और इस्तेमाल पर पाबंदी लगा दी है। बताया यह भी गया है कि पैरासिटामोल की सप्लाई हिमाचल की हीलर्स नाम की कंपनी कर रही थी।

जानकारी के मुताबिक ड्रग इंस्पेक्टर विवेक कुमार ने अगस्त माह में सीएमएससडी स्टोर से पैरासिटामोल टैबलेट का नमूना लिया था। आज जब नमूने की जांच आई तो पता चला कि पीसीएम टैबलेट में दवा की मात्रा मानक से काफी कम है।

Bansal Saree

इस संबंध में सीएमओ विनीत कुमार शुक्ल ने बताया कि पैरासिटामोल जांच में फेल हुई है। जिसके चलते सरकारी अस्पतालों में पैरासिटामोल की आपूर्ति पर रोक लगा दी गई है। जहां भी सरकारी अस्पताल में पैरासिटामोल का स्टॉक है उसे वापस मंगाया जा रहा है।

वही जानकार यह भी बताते है कि कोरोना काल मे पैरासिटामोल मरीजों के लिए रामवाण साबित हुई थी। लेकिन इस बात पर भी संदेह जताया जा रहा है कि दवा की क्वालिटी और अच्छी होती है तो कोरोना मरीजों के लिए और ज्यादा परेशानी नहीं उठाना पड़ती।