बरेली: कोरोना नियमों के साथ कालेजों में लगेंगी कक्षाएं, क्या हैं तैयारियां जानिए इस खबर में…

बरेली,न्यूज टुडे नेटवर्क। कोरोना काल में नए नियमों के साथ कालेजों में कक्षाएं लगेंगी। गौरतलब है कि शासन ने २३ नवंबर से कालेजों और महाविद्यालयों को खोलने के निर्देष जारी किए है। कोरोना संकट के बाद कई महीनों से स्कूल कालेजों को बंद कर दिया गया था। अब दोबारा कालेजों को खोलने के निर्देष मिले हैं।
 | 
बरेली: कोरोना नियमों के साथ कालेजों में लगेंगी कक्षाएं, क्या हैं तैयारियां जानिए इस खबर में…

बरेली,न्‍यूज टुडे नेटवर्क। कोरोना काल में नए नियमों के साथ कालेजों में कक्षाएं लगेंगी। गौरतलब है कि शासन ने २३ नवंबर से कालेजों और महाविद्यालयों को खोलने के निर्देष जारी किए है। कोरोना संकट के बाद कई महीनों से स्‍कूल कालेजों को बंद कर दिया गया था। अब दोबारा कालेजों को खोलने के निर्देष मिले हैं।

Bansal Saree

शासन ने कहा है कि कोरोना नियमों का पालन करने के साथ कालेजों में कक्षाएं संचालित की जाएं। कोरोना सावधानियों में सोशल डिस्‍टेंसिंग सबसे बड़ा मसला होगा। कारण यह है कि कालेजों और महाविद्यालयों में बड़ी संख्‍या में छात्र पंजीकृत हैं ऐसे में केवल पचास फीसदी छात्रों को एक सत्र में बुलाने पर भी मुश्‍किल से सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों का पालन किया जा सकता है।

चुनौती यह भी है कि पचास फीसदी छात्रों की उपस्‍थिति के साथ सीमित समय में पाठ्यक्रम भी कैसा पूरा कराया जाएगा, क्योंकि सत्र का 70 फीसदी समय निकल चुका है।

नया शासनादेश आने के बाद बरेली कॉलेज ने भी कक्षाएं लगाने को लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं। बरेली कॉलेज ऑड व ईवन नंबरों से विद्यार्थियों को बुलाने की तैयारी कर रहा है। प्राचार्य अनुराग मोहन 20 नवंबर को इस संबंध में अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। बैठक में आने वाले बेहतर सुझावों के तहत कक्षाएं शुरू की जाएंगी।

Devi Maa

शासन ने 23 नवंबर से भौतिक कक्षाएं, प्रयोगशालाएं व छात्रावास खोलने की अनुमति दी है। सभी को किस तरह से खोला जाएगा, सभी की अलग-अलग एसओपी भी जारी की गई है। इसके अलावा शिक्षकों, विद्यार्थियों, अभिभावकों व कर्मचारियों सभी की जिम्मेदारी भी तय की गई है। महाविद्यालय या विश्वविद्यालय परिसर में थर्मल स्क्रीनिंग जरूरी है। कक्षाओं में क्षमता के सिर्फ 50 फीसदी विद्यार्थी ही बैठ सकते हैं। इसके अलावा दो विद्यार्थियों के बीच में 6 फीट की दूरी भी होनी चाहिए। कोई भी विद्यार्थी आपस में पेन, नोटबुक, लैपटॉप शेयर भी नहीं कर सकेंगे।

मौजूदा समय में विश्वविद्यालय, बरेली कॉलेज, अवंती बाई कॉलेज समेत अन्य महाविद्यालयों में प्रवेश प्रक्रिया चल रही है। प्रवेश के तहत ही विद्यार्थियों का आवागमन हो रहा है। विश्वविद्यालय में विद्यार्थी प्रवेश संबंधी कई प्रमाण पत्र भी लेने पहुंच रहे हैं और परिणाम संबंधी समस्याओं को लेकर भी पहुंच रहे हैं। देखने में आया है कि अभी तक कोरोना नियमों का पालन नहीं हो रहा है।