सल्ट-सीएम तीरथ की व्यूह रचना से हुई रिकॉर्ड जीत, 5 मंत्र थे बेहद अचूक

 | 

सल्ट-एक बार फिर भाजपा ने सल्ट विधानसभा सीट अपनी झोली में डाल ली है। इससे पहले वहां से स्व. सुरेन्द्र सिंह जीना भाजपा से विधायक थे लेकिन उनके निधन के बाद उनके भाई महेश जीना पर भाजपा हाइकमान से भरोसा जताया। इसके बाद मैदान में उतरे महेश जीना ने अपनी विपक्षी गंगा पंचोली का पटखनी दे दी। इस जीत के असली हीरो मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत है जो अंतिम दिन वहां रैली को संबोधन करके पूरी बाजी पलट आये। सीएम तीरथ की यह चाल कामयाब रही। आज सल्ट में जीत का जश्र भाजपा के कार्यकर्ता मना रहे। 

Devi Maa Dental

 मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत द्वारा लोकसभा पौड़ी संसदीय क्षेत्र के रामनगर विधानसभा सीट के लोगों के बेहतर काम करने का फायदा भी महेश जीना को दिलाया । यहीं से मुख्यमंत्री तीरथ रावत ने जिस व्यूह रचना की सल्ट चुनाव की बिसात बिछाई थी, उसी ने चुनाव को काफी आसान कर दिया था। उसी कसौटी पर मंत्री यशपाल आर्य ने मुख्यमंत्री के किले को इतना मजबूत कर दिया जिससे कांग्रेस का एक भी दिग्गज उसे डिगा नहीं पाया।

Bansal Saree

भाजपा कार्यकर्ताओं की जी तोड़ मेहनत और मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की सरलता के कारण हर कार्यकर्ता ने उसे अपनी प्रतिष्ठा से जोड़ लिया। जिसका नतीजा ही सल्ट उपचुनाव में भाजपा की जीत हुई है।  खासकर कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य ने हर घर पहुंचकर लोगों से भाजपा के पक्ष में वोट की अपील की। और कार्यकर्ताओं को मुख्यमंत्री के मूल मंत्र को हर कार्यकर्ता के दिलों पर छा दिया। 

 कुल मिलाकर मुख्यमंत्री तीरथ के चक्रव्यूह में कांग्रेस फंस गई और सीएम तीरथ के नेतृत्व में भाजपा ने सल्ट विधानसभा के उपचुनाव में पहली बाजी मार दी। इससे पहले जब सीएम तीरथ सिंह रावत प्रदेश अध्यक्ष थे तो उनके नेतृत्व में भाजपा ने कई सीटों पर कब्जा जमाया था। उनके शांत स्वभाव की तारीफ आज भी कई  कार्यकर्ता  करते आये हैं। उनकी इसी सादगी के कायल सल्ट के वोटर भी थे। इसी का फायदा उन्हें मिला। सल्ट उपचुनाव की बाजी वर्ष 2022 विधानसभा चुनाव के किसी सेमीफाइनल से कम नहीं थी। इससे साफ  होता है कि जनता का तीरथ के नेतृत्व पर कितना भरोसा है। विकास की राह पर चले भाजपा ने सल्ट विधानसभा चुनाव में अपना झंडा बुलंद कर दिया।

तीरथ सिंह रावत का मूल मंत्र सिर्फ चुनाव प्रचार ही नहीं था बल्कि, पहला चुनाव प्रबंधन दूसरा सरल स्वभाव तीसरा बूथ मैनेजमेंट तकनीक चौथा सल्ट में कार्यकर्ताओं के साथ पकड़ और पांचवा टीम वर्क ने जीत मतदान के लिए ही तय कर दी थी