नैनीताल- कोरोना की नई गाइडलाइन जिले में जारी, डीएम ने दिये ये निर्देश

 | 

नैनीताल- शासन द्वारा जो नई एसओपी जारी की है, वह तत्काल प्रभाव से जिले में प्रभावी कर दी गयी है। जानकारी देते हुए जिलाधिकारी धीराज सिंह गब्र्याल ने बताया कि शासन की नई गाइडलाइन के मुताबिक जिले में रात्रि साढ़े दस बजे से सुबह पॉच बजे तक रात्रि कफ्र्यू प्रभावी कर दिया गया है। इसके अलावा जिलेभर के सार्वजनिक वाहनों में अब अधिकतम 50 प्रतिशत सवारियॉ हीं बैठायी जा सकेंगी। वहीं कोचिंग संस्थानों, स्वीमिंग पूल तथा स्पा केन्द्रों के संचालन पर रोक लगा दी गयी है।

Devi Maa Dental

उन्होंने कहा कि जनपद में बढ़ते कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत सामाजिक दूरी तथा मास्क के प्रयोग का शक्ति से अनुपालन कराया जायेगा। उन्होंने बताया कि सार्वजनिक वाहनों में यात्रियों की संख्या पचास प्रतिशत कर दी गयी है। भीड़ वाले स्थानों के लिए भी पचास प्रतिशत का नियम लागू होगा। उन्होंने बताया कि रात्रि कफ्र्यू के दौरान औद्योगिक शिफ्ट वाले कर्मचारियों, आपातकालीन वाहनों, माल वाहक से सम्बन्धित व्यक्तियों, बसों, ट्रेनों, हवाई जहाज आदि से उतरने वाले, शादी व संबन्धित समारोह से संबन्धित व्यक्तियों को रात्रि कफ्र्यू के दौरान आवाजाही की छूट रहेगी।

जिलाधिकारी ने बताया कि सभी धार्मिक, राजनैतिक व सामाजिक आयोजनों, विवाह आदि में अधिकतम 200 लोग ही शामिल होंगे। सार्वजनिक वाहन, बस, विक्रम, ऑटो रिक्सा आदि अब 50 प्रतिशत सवारी क्षमता के साथ ही जनपद में संचालित होंगे। उन्होंने बताया कि जिले के सभी बार, सिनेमा हॉल, रेस्तरां, जिम आदि में भी कुल क्षमता के पचास प्रतिशत लोगों को ही प्रवेश दिया जायेगा।इसके अलावा जनपद के सभी कोचिंग संस्थान, स्वीमिंग पूल, स्पा सेंटर पूर्णत: बन्द रहेंगे। डीएम गब्र्याल ने बताया कि जनपद में बनाये गये कन्टेंटमेंट जोन या माईक्रो कन्टेंटमेंट जोन आदि में सभी गतिविधियों पर प्रतिबन्ध प्रभावी रहेगा। 65 वर्ष से अधिक और दस वर्ष से कम उम्र के बच्चों, गर्भवती महिलाओं, गंभीर बीमारी से ग्रसित लोगों को घर पर रहने की सलाह दी जाती है। उन्होंने कहा कि जिलेभर में कोरोना संक्रमण को देखते हुए सामाजिक दूरी, मास्क पहनना और हाथों को बार-बार धोने के नियम का सभी पर्यटकों एवं जनपद वासियों को सार्जनिक स्थल पर अनिवार्य रूप से पालन करना होगा।

Bansal Saree

 
जिलाधिकारी ने जनपद के सभी उप जिलाधिकारियोंए पुलिस क्षेत्राधिकारियों तथा स्वास्थ्य महकमें के अधिकारियों से कहा है कि शासन द्वारा जारी गाइडलाईन का सख्ती के साथ अनुपालन करायें। जो लोग अनुपालन न करें और नियमों को तोड़ेंएउनके विरूद्ध एपिडेमिक एक्ट की विभिन्न धाराओं के अन्तर्गत कड़ी कार्यवाही अमल में लायी जाये।