रुद्रपुर: फाइनेंसर्स ने पुलिस के सहयोग से ऐसे उड़ाई इंसानियत की धज्जियां, पढ़िए क्या है पूरा मामला

रुद्रपुर । ट्रांजिट कैंप थाना क्षेत्र में फुलसुंगा में एक फाइनेंस कंपनी के लोगों ने लोन की रकम न लौटा पाने पर पुलिस के सहयोग से महिला व उसके बच्चों को जबरन घर से निकाल कर घर को सील कर दिया । महिला को इतना वक़्त भी नहीं दिया गया कि वह पहनने के कपड़े
 | 
रुद्रपुर: फाइनेंसर्स ने पुलिस के सहयोग से ऐसे उड़ाई इंसानियत की धज्जियां, पढ़िए क्या है पूरा मामला

रुद्रपुर । ट्रांजिट कैंप थाना क्षेत्र में फुलसुंगा में एक फाइनेंस कंपनी के लोगों ने लोन की रकम न लौटा पाने पर पुलिस के सहयोग से महिला व उसके बच्चों को जबरन घर से निकाल कर घर को सील कर दिया । महिला को इतना वक़्त भी नहीं दिया गया कि वह पहनने के कपड़े व खाने का सामान भी निकाल सके। अब कल से महिला अपने बच्चों के साथ भूखी प्यारी बैठी है । आखिर इंसानियत का गला घोंटते देख कर खाकी वर्दी वालों ने नज़र क्यों फेर ली?
फुलसुंगा निवासी ममता पत्नी दिलीप यादव का कहना है कि उसके तीन बच्चे हैं । चार साल पहले उसका पति उसे छोड़ कर चला गया था । तब से वह घरों में झाडू पौछा करके अपने बच्चों की रोटी का इंतजाम कर रही है । उसका कहना है कि 2014 में घर बनाने के लिए उसने बरेली के शुभम् फाइनेंस से 32700 रुपये ऋण लिया था । दो वर्षों में उसने 23 हजार रुपये की रकम लौटा दी। वह आगे की किश्त नहीं दे पाई। उसने बताया कि कल फाइनेंस कंपनी के लोग पुलिस के साथ आए और उसे व उसके बच्चों को जबरन घर से निकाल कर घर में ताला लगा दिया । उसका कहना है कि उसे नोटिस तक नहीं दिया गया । उसे घर सील होने से ज्यादा दिक्कत इस बात से है कि उसे जरूरी सामान जैसे रोजमर्रा के कपड़े, गैस चूल्हा, राशन आदि तक नहीं निकालने दिया गया ।
एसपी सिटी देवेंद्र पिंचा ने इस बारे में अनभिज्ञता जाहिर की, वहीं ट्रांजिट कैंप के थानाध्यक्ष ने फोन ही रिसीव नहीं किया ।

Bansal Saree