हरिद्वार-भौर से शुरू हुआ शाही स्नान, महाकुंभ में लाखों ने लगाई आस्था की डुबकी 

 | 

हरिद्वार-हरिद्वार कुंभ 2021 में सोमवती अमावस्या के पहले शाही स्नान पर भोर से ही श्रद्धालु सोमवती अमावस्या स्नान पर पुण्‍य लाभ कमाने को हरकी पैड़ी समेत आसपास के गंगा घाटों पर पहुंचने लगे। श्रद्धालुओं की आस्था के आगे कोरोना संक्रमण का खौफ  कहीं नहीं दिखा और सुबह से ही श्रद्धालुओं की भारी भीड़ हर की पैड़ी ब्रह्मकुंड सहित अन्य गंगा घाटों पर स्नान करने लगी। हर की पैड़ी पर सूर्योदय पर सुबह की गंगा आरती हुई।

Devi Maa Dental

श्रद्धालुओं ने गंगा पूजन के साथ ही गंगा में डुबकी लगाई और पुण्य लाभ कमाया। 13 अखाड़ों के स्नान शाही स्नान के चलते श्रद्धालु रोक-टोक से पहले ही हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड पर स्नान कर लेना चाह रहे थे। बावजूद इसके उन्हें अधिक देर तक हरकी पैड़ी पर स्नान को ठहरने नहीं दिया जा रहा था। कड़ी सुरक्षा में एक-दो डुबकी लगाकर श्रद्धालुओं को हरकी पैड़ी से अन्य घाटों की ओर भेजा जा रहा था। दिन चढऩे के साथ ही हरकी पैड़ी को पूरी तरह अखाड़ों के लिए आरक्षित कर दिया गया है। 


कोरोनाकाल में श्रद्धालुओं को हरिद्वार में प्रवेश भी कोविड की नेगेटिव रिपोर्ट ओर रजिस्ट्रेशन कराने के बाद दिया गया। इसके  बावजूद आस्था के सामना कोरोना की लाख बंदिशें बौनी नजर आई। वैसे तो हरकी पैड़ी पर रात 12 बजे के बाद से ही सोमवती अमावस्या का स्नान शुरू हो गया था। इसमें तेजी भोर में ब्रह्ममूहुर्त के बाद से आई। हरकी पैड़ी सहित अन्य घाटों पर स्नान का क्रम ओर तेज हो गया।

Bansal Saree