रुद्रप्रयाग-खुल गये द्वितीय केदार भगवान मध्यमेश्वर के कपाट, ऐसे पूरी हुई कपाट खुलने की रस्म

 | 

रुद्रप्रयाग- आज द्वितीय केदार भगवान मध्यमेश्वर के कपाट बैशाख शुक्ल त्रयोदशी कर्क लग्न स्वाति नक्षत्र में सुबह 11 बजे मंत्रोचार एवं विधि विधानपूर्वक खोल दिये गये हैं। जिसकेे बाद मध्यमेश्वर भगवान के कपाट खुलने के साथ ही सभी पंचकेदार मंदिरों के कपाट अब खुल चुके है।

Devi Maa Dental

आज सुबहह गोंडार गांव से पैदल चलकर मध्यमेश्वर धाम पहुंची। इसके बाद भगवान मध्यमेश्वर की डोली ने मंदिर की परिक्रमा की तथा अपने साज सामग्री पूजा पात्रों आदि का भी अवलोकन किया। 10.30 बजे पुजारी शिवलिंग चपटा ने कपाट खुलने की प्रक्रिया शुरू की तथा पंचोपचार पूजा अर्चना कर भगवान गणेश एवं क्षेत्रपाल भैरवनाथ का आह्वान कर कपाट खुलने की रस्म पूरी हुई। सुबह 11 बजे मध्यमेश्वर भगवान के कपाट खोल दिए गए।


इस अवसर पर कपाट खुलने की प्रक्रिया से जुड़े पुजारी एवं देवस्थानम बोर्ड, पुलिस प्रशासन के चुनिंदा प्रतिनिधि ही मौजूद रहे। देवस्थानम बोर्ड से मध्यमेश्वर मंदिर के पुजारी शिवलिंग चपटा, डोली प्रभारी अनूप पुष्पवान, बीकेटीसी के पूर्व सदस्य शिवसिंह रावत, तहसीलदार दीवान सिंह राणा आदि थे। 

Bansal Saree