हरिद्वार-मेलाधिकारी ने किया सतों का माल्यार्पण, ऐसे शुरू हुआ शाही स्नान

 | 

हरिद्वार-महाकुंभ 2021 के तीसरे शाही स्नान बैसाखी मेष संक्रांति पर सबसे पहले पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी के सचिव श्रीमहंत रवींद्र पुरी महाराज, निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी श्री कैलाशानंद गिरि और अखाड़े के अन्य पूज्य संतजन पहुंचे। उनके साथ आनंद अखाड़े के संत भी पहुंचे। मेलाधिकारी दीपक रावत और एसएसपी कुम्भ जन्मजेय खंडूरी ने हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड पहुंचने पर संतों का माल्यार्पण कर स्वागत किया। इसके बाद अपने इष्टदेव की पूजा अर्चना करने के बाद संतों ने शाही स्नान किया।

Devi Maa Dental

दूसरे क्रम में श्री पंचदशनाम जूना भैरव अखाड़ा, श्री अग्नि, आवाहन अखाड़े के संतों ने हर हर महादेव का जयघोष करते हुए जूनापीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि जी महाराज, श्री महंत प्रेमगिरि जी महाराज, श्रीमहंत वीरेंद्रानंद गिरि आदि संतों ने शाही स्नान किया। इनके साथ शामिल होकर किन्नर अखाड़े की आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी, महामंडलेश्वर पवित्रानंद गिरि, कल्याणी नंद गिरि और अखाड़े के अन्य संतों ने भी स्नान किया।शाही स्नान के तीसरे क्रम पर श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाण कनखल के श्रीमहंत रविन्द्र पुरी जी महाराज, महामंडलेश्वर महंत रूपेन्द्र प्रकाश जी महाराज और श्री शंभू पंचायती अटल अखाड़े के संतजनों ने हर-हर महादेव का जयघोष करते हुए शाही स्नान किया।

इसके बाद शाही स्नान के लिए तीनों बैरागी अखाड़ेे अखिल भारतीय श्री पंच निर्वाणी अणि अखाड़ा, अखिल भारतीय श्री पंच दिगम्बर अणि अखाड़ा और अखिल भारतीय श्री पंच निर्मोही अणि अखाड़े के संतों ने शाही स्नान किया। सभी ने कल्याण की कामना की। शाही स्नान के लिए आ रहे संतों पर हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा की गई। वहीं भक्तों ने संतों का दर्शन कर पुण्य लाभ प्राप्त किया। इसके बाद श्री पंचायती बड़ा अखाड़ा उदासीन निर्वाण और इसके बाद श्री पंचायती नया उदासीन अखाड़ा निर्वाण के साधु संतों ने स्नान किया। सबसे आखिर में श्री पंचायती निर्मल अखाड़ा के साधु संतों ने जयघोष करते हुए शाही स्नान किया।

Bansal Saree