देहरादून-ग्राफिक एरा के सबसे पहले कर्मचारी भंडारी का कोरोना से निधन, ऐसे की अपनी कार्य की शुरूआत

 | 

देहरादून- ग्राफिक एरा के सबसे पहले कर्मचारी सीएस भंडारी को कोरोना लील गया। हमेशा मुस्कराते रहने वाले भंडारी जी को परिवार के बुजुर्ग की तरह मानने वाले ग्राफिक एरा में आज हर कोई गमगीन रहा। पौड़ी गढ़वाल के रहने वाले चैत सिंह भंडारी एक सितम्बर 1993 को ग्राफिक एरा के शुरूआती दौर में इससे जुड़े थे। ये वो समय था जब इंजीनियरिंग करके देहरादून लौटे डॉ. कमल घनशाला ने एक छोटे संस्थान के रूप में ग्राफिक एरा की बुनियाद डाली थी। उस वक्त दिल्ली की किसी कम्पनी से अवकाश ग्रहण करके लौटे 65 वर्षीय भंडारी ग्राफिक एरा से जुडऩे वाले पहले कर्मचारी थे। उन्होंने कार्यालय सहायक के रूप में यह सेवा आरम्भ की। 

Devi Maa Dental

मैनेजमेंट की नीतियों को इंसानियत और प्रेम से महकाने के कारण एक अलग पहचान बनाने वाले डॉ. कमल घनशाला ने भंडारी की ग्राफिक एरा से सेवानिवृत्ति होने के बाद भी कहीं नहीं जाने दियाए बल्कि परिसर में ही उनके रहने आदि की व्यवस्थाएं करके उन्हें हमेशा प्रेम और सम्मान से निहाल रखा।  भंडारी के कोई बच्चा नहीं था। डॉ. घनशाला ने उनका वैक्सीनेशन भी करायाए लेकिन दूसरी डोज के कुछ ही दिन बाद कल खांसी होने पर उन्हें अस्पताल लाया गया थाए लेकिन 93 वर्षीय भंडारी ने वहां दम तोड़ दिया। 

भंडारी के भतीजे ने ग्राफिक एरा परिवार के सदस्यों के साथ आज कोविड प्रोटोकॉल के तहत उनका अंतिम संस्कार किया। आज ग्राफिक एरा में छोटे कर्मचारी से लेकर शीर्ष प्रबंधन तक भंडारी के  शोक में गमगीन रहा। इससे पहले ग्राफिक एरा के आईटी के एचओडी प्रोण् मनीष महाजन और एक गार्ड का कोरोना के कारण निधन हो चुका है। शीर्ष प्रबंधन ने उनके बच्चों और परिवार के लिए कई बड़े कदम उठाये हैं।
 

Bansal Saree