चमोली-सुमना ग्लेशियर हादसे में अभी तक 11 की मौत, लापता लोगों की तलाश जारी

 | 

 चमोली- सुमना-2 में बीआरओ के मजदूरों के कैंप टिन शेड के ऊपर हिमस्खलन होने से हुए सुमना हादसे में रविवार को एक और शव बरामद किया गया। जिसके बाद अब मृतकों की संख्या11 हो गई है। वहीं सभी शवों को वायुसेना के दो विमानों से जोशीमठ लाया गया। जहां मृतकों का पोस्टमार्टम किया जाएगा। डीएम स्वाति एस भदौरिया और पुलिस अधीक्षक यशवंत सिंह चौहान शनिवार से जोशीमठ में मौजूद हैं और रेस्क्यू कार्यों की निरंतर मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

Devi Maa Dental

इस आपदा में लापता सात लोगों का अभी तक कोई सुराग नहीं लग पाया है। बताया जा रहा है कि मौसम साफ  होने के बाद तेज हवा चलने से सुमना इलाके में सेना के हेलीकॉप्टर को लेंडिंग में दिक्कतें आ रही हैं। इसके अलावा मलारी-सुमना मोटर मार्ग को खोलने का कार्य बीआरओ के द्वारा जारी है। अभी तक घटना स्थल तक सडक़ मार्ग को खोला नहीं गया है। गौरतलब है कि शुक्रवार को रिहाइशी टिन शेड के ऊपर दो बार हुए इस भारी हिमस्खलन में 7 मजदूर घायल हो गए, 384 मजदूर सुरक्षित बच गए। घायलों को जोशीमठ सैन्य अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सुमना में साल 1991 में भी ऐसे ही हिमस्खलन की चपेट में आकर 11 आईटीबीपी जवान श् ाहीद हो गए थे।