सीएम त्रिवेंद्र ने भारत चीन बॉर्डर पर मनाई दीपावली,ईमानदार cm को देख बोले जवान- जय हिंद

आज मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत आइ.टी.बी.पी. कैम्प कोपांग तथा 9 वीं बटालियन बिहार रेजिमेंट, उत्तरकाशी में जवानों के साथ दीपावली मिलन कार्यक्रम में शामिल हुए। यहां उन्होंने सेना के जवानों का उत्साह वर्धन किया। सम्मान से गदगद सेना के जांबाजों का जोश भी देखते ही बना। हर्षिल जैसी अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर तैनात जांबाजों का
 | 
सीएम त्रिवेंद्र ने भारत चीन बॉर्डर पर मनाई दीपावली,ईमानदार cm को देख बोले जवान- जय हिंद

आज मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत आइ.टी.बी.पी. कैम्प कोपांग तथा 9 वीं बटालियन बिहार रेजिमेंट, उत्तरकाशी में जवानों के साथ दीपावली मिलन कार्यक्रम में शामिल हुए। यहां उन्होंने सेना के जवानों का उत्साह वर्धन किया। सम्मान से गदगद सेना के जांबाजों का जोश भी देखते ही बना।
हर्षिल जैसी अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर तैनात जांबाजों का हौसला बढ़ाने को सीएम त्रिवेंद्र के अलावा सूबे का कोई और मुख्यमंत्री तो भले ही नहीं पहुंचा हो, लेकिन सीएम त्रिवेंद्र सेना के सम्मान में सीमा पर जाते रहे हैं। दीपावली पर यह मिलन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की सेना के प्रति उनके लगाव भी दर्शाता ही है, चीन सीमा पर उपजे तनाव के चलते तो सीएम के इस उत्साहवर्द्धधन के मायने और भी बेहद अहम हैं।

Devi Maa Dental

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सैन्य परिवार से हैं। कार्यक्रम चाहे राजनैतिक हो या सांस्कृतिक या अन्य कोई भी, अक्सर मंचों से वह इस बात को बड़े गर्व के साथ कहते हैं कि मैं एक फौजी का बेटा हूं। तब उनके भीतर के देश भक्ति के जज्बे को साफ देखा जा सकता है। उत्तराखंड को सैन्य धाम बनाने की दिशा में पहल करना भी उनकी बड़ी उपलब्धियों में है। बात चाहे देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से हुई वन रैंक वन पेंशन की हो या फिर सेना के जांबाजों को दी जाने वाली अन्य सुविधाओं की। त्रिवेंद्र रावत के नेतृत्व में चल रही उत्तराखंड सरकार सेना के सम्मान को लेकर हर वक्त ही बेहद गंभीर रही है। उत्तराखंड एकमात्र इस राज्य है जी शहीद हुए सैनिकों के आश्रित को सरकारी नौकरी दी जा रही है। फिर ‘सीमांत विकास योजना’ भी सैनिकों का मनोबल बढ़ा रही है। सीमांत गांवों के ग्रामीणों को द्वितीय रक्षा पंक्ति मानते हुए सहूलियतें दी जा रही हैं। मुख्यमंत्री का दीवाली पर आईटीबीपी के कैंप में जवानों से मिलन पूरे प्रदेश के लिए भी गौरव करने वाली बात है।

हर्षिल के सौंदर्य की बात करें तो यहां प्रकृति ने कई नेमतों को बिखेरा है। बेशुमार सौंदर्य. देवदार के घने जंगल, हिमाच्छादित चोटियां और पहाड़ों पर पसरे हिमनद. कहीं शांत तो कहीं कल कल करती जीवनदायनी भागीरथी, यह यहां के अलौकिक नजारे हैं। लेकिन यह नजारे आज और भी सुरम्य और रोमांचक हो उठे जब उल्लास के पर्व पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने सेना के जांबाजों का उत्साहवर्द्धन किया।

Bansal Saree