ऋषिकेश- ग्राफिक एरा ने शहीद डोभाल के परिजनों को सौंपा 10 लाख का चेक, उठाई बच्चों के शिक्षा की जिम्मेदारी

ऋषिकेश- जम्मू-कश्मीर के बारामुला सेक्टर में पाकिस्तानी सेना से लड़ते हुए शहीद हुए ऋषिकेश गंगा नगर निवासी बीएसएफ के जवान राकेश डोभाल के परिवार को ग्राफिक एरा विवि ने 10 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी है। शहीद बीएसएफ के उप निरीक्षक राकेश डोभाल के परिवार को 10 लाख रुपये आर्थिक सहायता का चेक सौंपा।
 | 
ऋषिकेश- ग्राफिक एरा ने शहीद डोभाल के परिजनों को सौंपा 10 लाख का चेक, उठाई बच्चों के शिक्षा की जिम्मेदारी

ऋषिकेश- जम्मू-कश्मीर के बारामुला सेक्टर में पाकिस्तानी सेना से लड़ते हुए शहीद हुए ऋषिकेश गंगा नगर निवासी बीएसएफ के जवान राकेश डोभाल के परिवार को ग्राफिक एरा विवि ने 10 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी है। शहीद बीएसएफ के उप निरीक्षक राकेश डोभाल के परिवार को 10 लाख रुपये आर्थिक सहायता का चेक सौंपा। ग्राफिक एरा मैनेजमेंट की वरिष्ठ पदाधिकारी राखी घनशाला ने ऋषिकेश गंगानगर स्थित शहीद के घर पहुंचकर शहीद के परिवार को यह धनराशि भेंट की।

Devi Maa Dental

नैनीताल-मतदाता सूची में दर्ज कराये अपना नाम, ये है अंतिम तिथि

ग्राफिक एरा मैनेजमेंट की वरिष्ठ पदाधिकारी राखी घनशाला ने कहा कि दीपावली पर जब पूरा देश खुशियां मना रहा था, तब हमारे उत्तराखंड के जांबाज राकेश डोभाल ने देश के दुश्मनों से लोहा लेते हुए अपनी जान न्योछावर कर दी। ग्राफिक एरा परिवार भी शहीद राकेश डोभाल का ऋणी है। शहीद राकेश डोभाल को सच्ची श्रद्धांजलि यही होगी कि हम उनके परिवार को ये अहसास न होने दें कि वे आज अकेले हैं। हम सब उनके साथ खड़े हैं। घनशाला ने कहा कि शहीद राकेश डोभाल की सुपुत्री दीत्या डोभाल और कुछ समय बाद जन्म लेने वाले उनके बच्चे की प्राइमरी से लेकर उच्च शिक्षा तक की पूरी जिम्मेदारी ग्राफिक एरा संभालेगा। उन्होंने शहीद के सम्मानार्थ धनराशि के चेक भेंट करने के साथ ही बच्चों की शिक्षा व्यवस्था ग्राफिक एरा में किए जाने के संबंध में एक पत्र भी शहीद की धर्मपत्नी संतोषी डोभाल को सौंपा।

Bansal Saree

हल्द्वानी- इस दिन होगी सहायक लेखाकार के 93 पदों के लिए लिखित परीक्षा, ऐसे डाउनलोड करें प्रवेश पत्र

पत्र में कहा गया है कि शहीद के बच्चे ग्राफिक एरा डीम्ड यूनिवर्सिटी और ग्राफिक एरा हिल यूनिवर्सिटी में इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, कम्प्यूटर एप्लीकेशन आदि कोई भी कोर्स कर सकते हैं, उनसे किसी तरह का कोई शुल्क नहीं ली जाएगा। प्राइमरी शिक्षा का इंतजाम ग्राफिक एरा ग्लोबल स्कूल में होगा। निजी क्षेत्र की ये पहल शहीदों के परिवारों को अकेला पडऩे से बचाने का रास्ता खोल सकती है।