पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आईआईआरएस परिसर में किया वृक्षारोपण,दोहराया अपना संकल्प

 | 

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को भले ही पार्टी संगठन ने अभी तक कोई अहम जिम्मेदारी नहीं दी है, लेकिन उन्होंने खुद को राजनीतिक और सामाजिक दृष्टिकोण से सक्रिय रखा हुआ है। उन्होंने पीपल, बरगद और अन्य उपयोगी वृक्षों की एक लाख पौध लगाने का लक्ष्य रखा हुआ है। जो जल्द ही अब पूरा होने जा रहा है। साथ ही वह विभिन्न सामाजिक गतिविधियों में हर दिन भागीदारी कर रहे हैं। 

Bansal Saree

पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत शुक्रवार को कालीदास रोड स्थित भारतीय सुदूर संवेदन संस्थान पहुंचे। संस्थान के निदेशक और उनकी टीम ने उनका गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। इसके बाद संस्थान की टीम ने निदेशक डा. चौहान की मौजूदगी में संस्थान की सैटेलाइट इमेज के माध्यम से किए जा रहे कार्यों और समाज के हित में एकत्र किए जा रहे डाटा की जानकारी साझा की।  त्रिवेंद्र ने बताया कि इस साल उन्होंने एक लाख पीपल, बरगद और इसकी प्रजातियों के वृक्षारोपण का लक्ष्य रखा है। प्रदेश के विभिन्न भागों में करीब 65 हजार से ज्यादा वृक्ष रोपित किए जा चुके हैं। समाज के हर वर्ग का भी सहयोग इस कार्य में मिल रहा है। जनता के सहयोग से उनका यह अभियान अपने लक्ष्य की ओर बढ़ रहा है। 

संस्थान के निदेशक ने इसरो की गतिविधियों की जानकारी दी। साथ ही पीपल, बरगद और इसकी प्रजातियों के वृक्षारोपण के अभियान की सराहना करते हुए त्रिवेंद्र सिंह रावत को बधाई भी दी। उन्होंने बताया कि पीपल और बरगद में कार्बन उत्सर्जन को सोखने की शक्ति सबसे ज्यादा है। संस्थान इस दिशा में मैपिंग का कार्य भी कर रहा है। डा. चौहान ने ही चंद्रमा में पहली बार पानी के कणों का पता लगाने में कामयाबी हासिल की थी। संस्थान ने कोरोना काल में एक लाख से अधिक युवा वैज्ञानिकों को आनलाइन कक्षाओं के जरिये कई कोर्सेज पढ़ाए गए। इसमें उत्तराखंड के साथ ही देश और विदेश के युवाओं ने भी आन लाइन कोर्सेज में प्रतिभाग किया।

Devi Maa Dental

उन्होंने बताया कि उत्तराखंड समेत अन्य राज्यों के विभिन्न जन कल्याणकारी प्रोजेक्ट्स पर भी संस्थान कार्य कर रहा है। इसी साल फरवरी में चमोली के तपोवन रैणी की आपदा के बाद राज्य सरकार की ओर से संस्थान को हिमालय के सभी ग्लेशियरों की मानिटरिगं की जिम्मेदारी भी दी गई है। इस मौके पर उत्तराखंड स्पेस एप्लीकेशन सेंटर के निदेशक डा. महेंद्र प्रताप सिंह बिष्ट समेत संस्थान के वैज्ञानिक मौजूद रहे।