देहरादून- उत्तराखंड में इन लोगो के लिए शुरु हो सकती है चारधाम यात्रा, केन्द्र की इस गाइडलाइन का इंतजार

उत्तराखंड में बदरीनाथ को छोड़ शेष तीनों धाम केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री के कपाट खोले जा चुके हैं। हालाकिं कोरोना वायरस के मद्देनज़र अभी यात्रा प्रारंभ नहीं हुई है। खबर है कि यहां कि आर्थिक को देखते हुए यात्रा खोले जाने पर विचार किया जा रहा है, ऐसा होने पर प्रदेश के ग्रीन जोन जिलों
 | 
देहरादून- उत्तराखंड में इन लोगो के लिए शुरु हो सकती है चारधाम यात्रा, केन्द्र की इस गाइडलाइन का इंतजार

उत्तराखंड में बदरीनाथ को छोड़ शेष तीनों धाम केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री के कपाट खोले जा चुके हैं। हालाकिं कोरोना वायरस के मद्देनज़र अभी यात्रा प्रारंभ नहीं हुई है। खबर है कि यहां कि आर्थिक को देखते हुए यात्रा खोले जाने पर विचार किया जा रहा है, ऐसा होने पर प्रदेश के ग्रीन जोन जिलों के लोग इस यात्रा में शामिल हो सकेंगे। फिलहाल प्रदेश सरकार द्वारा केंद्र की तीन मई के बाद लॉकडाउन के संबंध में दी जाने वाली गाइडलाइन का इंतजार किया जा रहा है। इसके बाद यात्रा शुरू करने का प्रस्ताव केंद्र को भेजा जाएगा।

Devi Maa Dental

पर्वतीय क्षेत्र के लोगों की आर्थिकी का अहम जरिया

बता दें कि प्रदेश में चारधाम यात्रा पर्वतीय क्षेत्र के लोगों की आर्थिकी का अहम जरिया है। छह माह चलने वाली यात्रा से ही यात्रा मार्ग पर पड़ने वालों के साथ ही इनके आसपास के गावों के लोगों की गुजर बसर होती है। कपाट खुलने के बावजूद यात्रा न चल पाने के कारण इनकी आर्थिकी पूरी तरह प्रभावित हो रही है। ऐसे में सभी लोग सरकार की ओर इसे लेकर टकटकी लगाए हुए हैं। कोरोना के कारण फिलहाल केंद्र सरकार ने सभी धार्मिक स्थलों में यात्रा व दर्शन पर रोक लगाई हुई है।

देहरादून- उत्तराखंड में इन लोगो के लिए शुरु हो सकती है चारधाम यात्रा, केन्द्र की इस गाइडलाइन का इंतजार

Bansal Saree

ऐसे में प्रदेश सरकार इस पर अपने स्तर से कोई निर्णय नहीं ले सकती है। ऐसे में इस संबंध में प्रस्ताव केंद्र को भेजने पर विचार चल रहा है। यदि केन्द्र कि इस गाइडलाइन में धार्मिक स्थलों पर रोक बरकरार रहती है तो फिर यात्रा स्थगित ही रहेगी। यदि इसमें कोई छूट मिलती है तो फिर ग्रीन जोन जिलों में चारधाम यात्रा शुरू की जा सकती है। इस संबंध में सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर का कहना है कि केंद्र की गाइडलाइन के बाद ही इस संबंध में कोई निर्णय लिया जाएगा।

यहाँ भी पढ़े

अल्मोड़ा- जब मंत्री रेखा आर्य के FB अकाउंट से लोगों को पहुंचे अश्लील मैसेज, जाने क्यू आग बबूला हुईं मंत्री

ऋषिकेश-कोरोना ने नहीं हुई थी महिला की मौत, एम्स निदेशक का बड़ा बयान