मैक्सवेल को अपने हिसाब से खेलने देने का श्रेय आरसीबी को जाता है : पार्थिव

मुंबई, 15 सितम्बर (आईएएनएस)। भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल का कहना है कि ग्लेन मैक्सवेल को उनके हिसाब से खेलने देने के लिए रॉयल चेलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) के मैनेजमेंट को श्रेय देना चाहिए।
 | 
मैक्सवेल को अपने हिसाब से खेलने देने का श्रेय आरसीबी को जाता है : पार्थिव मुंबई, 15 सितम्बर (आईएएनएस)। भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल का कहना है कि ग्लेन मैक्सवेल को उनके हिसाब से खेलने देने के लिए रॉयल चेलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) के मैनेजमेंट को श्रेय देना चाहिए।

विराट कोहली के कप्तानी वाली टीम के लिए अपने पहले सीजन में मैक्सवेल ने सात मैचों में 37.16 के औसत से 223 रन बनाए हैं जिसमें दो अर्धशतक भी शामिल हैं।

पार्थिव ने कहा, मुझे लगता है कि कुछ खिलाड़ी हैं जो एक निश्चित वातावरण में फलते-फूलते हैं। मुझे लगता है, कभी-कभी, आप उन पर बहुत अधिक दबाव नहीं डालते हैं। आप बस उस खिलाड़ी को वही करने देते हैं जो वो कर सकता है और कभी-कभी इससे खिलाड़ी के मानस पर बहुत फर्क पड़ता है। मुझे लगता है कि आपको यहां आरसीबी के मैनेजमेंट की पीठ थपथपानी होगी।

Bansal Saree

उन्होंने कहा, हम सभी जानते हैं कि मैक्सवेल क्या कर सकते हैं लेकिन उन्हें उनके हिसाब से खेलने देने की छूट देने के लिए आरसीबी के टीम मैनेजमेंट को श्रेय देना होगा।

भारत के पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने बताया कि आरसीबी ने अभी तक आईपीएल का खिताब क्यों नहीं जीता है। फ्रेंचाइजी टूर्नामेंट के 2009, 2011 और 2016 संस्करणों में उपविजेता रही है। पिछले सीजन में वह प्ले-ऑफ में गए थे लेकिन एलिमिनेटर में बाहर हो गए थे।

गंभीर ने कहा, कोहली के पास एबी डिविलियर्स और मैक्सवेल जैसे खिलाड़ी हैं। डिविलियर्स ऐसे हैं जो जसप्रीत बुमराह से पार पाते हैं। मैंने बुमराह के खिलाफ किसी को लगातार ऐसा करते नहीं देखा।

उन्होंने कहा, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आपके पास पांच या छह शीर्ष अंतरराष्ट्रीय गेंदबाज होते हैं जो आईपीएल में नहीं है। आपको शायद दो या तीन अंतरराष्ट्रीय गेंदबाज मिलें और फिर आपके पास घरेलू गेंदबाज भी हैं, जिन पर आप हावी हो सकते हैं। इसलिए, शायद कोहली और डिविलियर्स पर भी बहुत दबाव है, जो एक कारण हो सकता है। अगर आप खिताब नहीं जीतते हैं तो दबाव भी बढ़ता रहता है।

Devi Maa Dental

--आईएएनएस

एसकेबी