भारतीय ओलंपिक टीम का आधिकारिक पार्टनर बना स्पोर्ट्स फॉर ऑल

नई दिल्ली, 16 जुलाई (आईएएनएस)। भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने शुक्रवार को स्पोर्ट्स फॉर ऑल (एसएफए) को टोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों के लिए भारतीय ओलंपिक दल के आधिकारिक पार्टनर के रूप में शामिल किया।
 | 
भारतीय ओलंपिक टीम का आधिकारिक पार्टनर बना स्पोर्ट्स फॉर ऑल नई दिल्ली, 16 जुलाई (आईएएनएस)। भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने शुक्रवार को स्पोर्ट्स फॉर ऑल (एसएफए) को टोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों के लिए भारतीय ओलंपिक दल के आधिकारिक पार्टनर के रूप में शामिल किया।

आईओए के महासचिव राजीव मेहता ने कहा, हम अपने आधिकारिक स्पोर्ट्स एडटेक पार्टनर के रूप में एसएफए को पाकर बहुत उत्साहित हैं। अपने प्रौद्योगिकी संचालित प्लेटफॉर्म और मेगा-स्केल के साथ, स्कूल और कॉलेज स्तर पर ऑन-ग्राउंड मल्टी-स्पोर्ट प्रतियोगिताओं का आयोजन करेगा। साथ ही यह हमारे बच्चों और युवाओं को उनकी सर्वश्रेष्ठ खेल क्षमता का पीछा करने के लिए सशक्त बनाने और सक्षम करने काम भी करेगा, जिससे कि आने वाले समय में भारत के ओलंपिक सपनों को पूरा किया जा सके।

Bansal Saree

साल 2015 में एसएफए की स्थापना करने वाले ऋषिकेश जोशी और विश्वास चोकसी ने कहा, आईओए और टीम इंडिया के साथ हमारा जुड़ाव हमारे इस ²ढ़ विश्वास पर कायम है कि भारत के बच्चों को उनकी खेल यात्रा के शुरूआती चरणों में ही बेहतरीन खेल मंच प्रदान करके, हम आने वाले वर्षों में भारत का प्रतिनिधित्व करने और वैश्विक खेल मानचित्र के शीर्ष पर ले जाने की दिशा में उनकी प्रगति को बढ़ावा दें सकते हैं।

एसएफए ने एक पूरी तरह से एकीकृत फिजिटल (ऑनलाइन और ऑन-ग्राउंड का काम्बीनेशन) मंच तैयार किया है जो प्रौद्योगिकी के माध्यम से ऑन-ग्राउंड प्रतियोगिताओं के साथ-साथ खेल शिक्षा को सक्षम बनाता है। यह अनुभव और उपकरणों के सही सेट के साथ खेल के 30 स्पधार्ओं में एथलीटों की पहचान, पोषण और उन्हें सशक्त बनाने में मदद करता है।

Devi Maa Dental

विश्वास ने कहा, हर बच्चा छोटी उम्र में खेल चुनता है। चाहे वह मौज-मस्ती करने, जीवन कौशल सीखने, फिट रहने या भारत का प्रतिनिधित्व करने की आकांक्षाओं के लिए ऐसा करत हो, एसएफए उनके सफर को सुविधाजनक बनाने और प्रेरित करने का काम करेगा। प्रौद्योगिकी हमारे बैकबोन में है और इसकी मदद से हम मल्टी स्पोर्ट ट्रेनिंग और ऑन-ग्राउंडप्रतियोगिताओं को सभी के लिए किफायती और सुलभ बना रहे हैं।

ऋषिकेश ने कहा, भारत में एक वैश्विक खेल महाशक्ति बनने की क्षमता है। खेलों को एक करियर विकल्प बनाने के लिए हमें एक मजबूत परिस्थिति का तंत्र बनाने की जरूरत है। हमारा मंच प्रशिक्षकों और अकादमियों को उन बच्चों से जुड़ने में सक्षम बनाएगा जो कोई भी खेल सीखना चाहते हैं। यह हमारे भविष्य के चैंपियन के लिए एक व्यवस्थित और रणनीतिक तरीके से नींव तैयार करेगा।

--आईएएनएस

एसकेबी/आरजेएस