अगले साल एक टेस्ट मैच एक मजाक की तरह होगा जिसमें कोई दिलचस्पी नहीं रहेगी: वॉन

मैंचेस्टर, 11 सितम्बर (आईएएनएस)। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन का मानना है कि इंग्लैंड और भारत के बीच रद्द किया हुआ टेस्ट अगर दोबारा खेला गया तो उस टेस्ट में उतना मजा नहीं आएगा।
 | 
अगले साल एक टेस्ट मैच एक मजाक की तरह होगा जिसमें कोई दिलचस्पी नहीं रहेगी: वॉन मैंचेस्टर, 11 सितम्बर (आईएएनएस)। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन का मानना है कि इंग्लैंड और भारत के बीच रद्द किया हुआ टेस्ट अगर दोबारा खेला गया तो उस टेस्ट में उतना मजा नहीं आएगा।

वॉन ने शनिवार को द टेलीग्राफ के लिए अपने कॉलम में लिखा, अगले साल एक टेस्ट मैच एक मजाक की तरह होगा जिसमें कोई दिलचस्पी नहीं रहेगी। टेस्ट क्रिकेट को शानदार बनाने के लिए छह सप्ताह के दौरान पांच मैचों की सीरीज होती है। आप जीतने के लिए पसीना, खून और आंसू बहाते हैं, यही कारण है कि यह खेल का सबसे कठिन प्रारूप है।

Bansal Saree

वॉन ने कहा, खिलाड़ी चिंतित होंगे कि वे इस मैच में कैसे रन बनाएंगे या फिर कैसे विकेट लेंगें। अब उन्हें यह करने के लिए एक साल का इंतजार करना होगा। यह सिर्फ एक टेस्ट होगा जो एक टेलीविजन अनुबंध को पूरा करने के लिए खेला जाएगा, यह व्यर्थ होगा। यह सीरीज खत्म हो चुकी है।

46 वर्षीय कमेंटेटर ने बायो-बबल में खिलाड़ियों के प्रति सहानुभूति व्यक्त की, लेकिन महसूस किया कि पिछले कुछ हफ्तों में प्रोटोकॉल को उतना गंभीरता से नहीं लिया गया।

वॉन ने कहा, मैं समझता हूं कि खिलाड़ी बबल में कठिन समय से गुजरे हैं, लेकिन वास्तव में पिछले कुछ हफ्तों में प्रोटोकॉल को गंभीरता से नहीं लिया गाय है। इंग्लैंड में पिछले कुछ हफ्तों से भारतीय टीम वही कर रही है जो उन्हें पसंद है, बाहर जाना और अच्छा समय बिताना। लेकिन अचानक, आईपीएल से एक हफ्ते पहले, उन्होंने टेस्ट मैच नहीं खेलने का फैसला किया। यह लोग सिर्फ अपनी शक्ति का उपयोग कर रहे हैं जिसके चलते क्रिकेट के समर्थकों को परेशानी हो रही है।

Devi Maa Dental

वॉन ने कहा कि टेस्ट मैच रद्द करना बोर्ड या प्रशासकों के बारे में नहीं था, यह निर्णय लेने वाले खिलाड़ियों के बारे में था।

वॉन ने कहा, यह बोडरें या प्रशासकों के बारे में नहीं है। यह कॉल करने वाले खिलाड़ी हैं। प्रशासक हमेशा खेल चाहते हैं। उन्होंने प्रसारण और प्रचार सौदों के साथ-साथ हजारों टिकट बेचे हैं।

--आईएएनएस

आरएसके/एसकेबी