दुनिया भर में करीब 15 लाख बच्चों ने कोविड के कारण अपने माता-पिता, अभिभावकों को खोया

वाशिंगटन, 21 जुलाई (आईएएनएस)। भारत के 1,19,000 बच्चों सहित दुनिया भर में 15 लाख से ज्यादा बच्चों ने कोविड के कारण कम से कम एक माता-पिता, कस्टोडियल दादा-दादी या दादा-दादी को खो दिया है। इसकी जानकारी द लांसेट में प्रकाशित एक नए अध्ययन के अनुसार साझा की गई है।
 | 
दुनिया भर में करीब 15 लाख बच्चों ने कोविड के कारण अपने माता-पिता, अभिभावकों को खोया वाशिंगटन, 21 जुलाई (आईएएनएस)। भारत के 1,19,000 बच्चों सहित दुनिया भर में 15 लाख से ज्यादा बच्चों ने कोविड के कारण कम से कम एक माता-पिता, कस्टोडियल दादा-दादी या दादा-दादी को खो दिया है। इसकी जानकारी द लांसेट में प्रकाशित एक नए अध्ययन के अनुसार साझा की गई है।

अध्ययन का अनुमान है कि उनमें से, 10 लाख से ज्यादा बच्चों की महामारी के पहले 14 महीनों के दौरान एक या दोनों माता-पिता की मौत हो गई, और अन्य 5 लाख बच्चों ने अपने ही घर में रहने वाले दादा-दादी की मौत देखी है।

Bansal Saree

भारत में, शोधकतार्ओं का अनुमान है कि मार्च 2021 (5,091) की तुलना में अप्रैल 2021 में नव अनाथ बच्चों (43,139) की संख्या में 8.5 गुना बढ़ोतरी हुई है।

जिन बच्चों ने माता-पिता या देखभाल करने वाले को खो दिया है, उनके स्वास्थ्य, सुरक्षा पर गहरा अल्पकालिक और दीर्घकालिक प्रतिकूल प्रभाव जैसे कि बीमारी, शारीरिक शोषण, यौन हिंसा और किशोर गर्भावस्था के जोखिम में बढ़ोतरी होने का खतरा है।

Devi Maa Dental

यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन कोविड रिस्पांस टीम से मुख्य लेखक डॉ सुसन हिलिस ने कहा, दुनिया भर में हर दो कोविड मौतों के लिए, माता-पिता या देखभाल करने वाले की मौत का सामना करने के लिए एक बच्चा पीछे छूट जाता है। 30 अप्रैल, 2021 तक, ये 1.5 मिलियन बच्चे दुनिया भर में 30 लाख कोविड -19 मौतों का दुखद अनदेखी परिणाम बन गए थे और यह संख्या केवल महामारी की प्रगति के रूप में बढ़ेगी।

उन्होंने कहा, हमारे निष्कर्ष इन बच्चों को प्राथमिकता देने और साक्ष्य-आधारित कार्यक्रमों और सेवाओं में निवेश करने की तत्काल आवश्यकता को उजागर करते हैं जिससे वे अभी उनकी रक्षा और समर्थन कर सकें और भविष्य में कई सालों तक उनका समर्थन कर सकें क्योंकि अनाथपन दूर नहीं होता है।

शोधकतार्ओं ने मार्च 2020 से अप्रैल 2021 तक कोविड -19 मृत्यु दर के आंकड़ों और 21 देशों के राष्ट्रीय प्रजनन आंकड़ों के आधार पर अनुमान लगाया है।

प्राथमिक देखभाल करने वालों (माता-पिता या संरक्षक दादा-दादी) को खोने वाले बच्चों की सबसे अधिक संख्या वाले देशों में दक्षिण अफ्रीका, पेरू, संयुक्त राज्य अमेरिका, भारत, ब्राजील और मैक्सिको शामिल हैं।

प्राथमिक देखभाल करने वालों ( 1/1000 बच्चों) में कोविड -19 से संबंधित मौतों की दर वाले देशों में पेरू, दक्षिण अफ्रीका, मैक्सिको, ब्राजील, कोलंबिया, ईरान, संयुक्त राज्य अमेरिका, अर्जेंटीना और रूस शामिल हैं।

लगभग हर देश में, महिलाओं की तुलना में पुरुषों की ज्यादा मौत हुई थी, विशेषकर मध्य और वृद्धावस्था में। कुल मिलाकर, अपनी मां को खोने की तुलना में पांच गुना अधिक बच्चों ने अपने पिता को खो दिया।

शोधकतार्ओं ने कोविड प्रतिक्रिया योजनाओं में बच्चों की देखभाल करने वालों की मौत के प्रभाव को दूर करने के लिए तत्काल कार्रवाई का आह्वान किया।

--आईएएनएस

एसएस/आरजेएस