Norovirus :  कोविड-19 से ज़्यादा ख़तरनाक है नोरोवायरस, जानिए कितना घातक है यह वायरस

 | 

Norovirus : वर्तमान समय में पूरी दुनिया कोरोना वायरस महामारी के कठिन दौर से गुजर रही है। ऐसे में एक और खतरनाक वायरस, नोरोवायरस, जिसे उल्टी बग (vomiting Bug) के रूप में भी जाना जाता है। नोरोवायरस ने कम आबादी वाले इलाकों में अपनी दस्तक दे दी है। पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (पीएचई) ने कहा है कि हाल ही में पूरे इंग्लैंड में नोरोवायरस के मामले बढ़ रहे हैं।  इंग्लैंड में अब तक नोरोवायरस के लगभग 154 मामले सामने आ चुके हैं। CDC के मुताबिक, नोरोवायरस अत्यधिक संक्रामक वायरस का एक समूह है जो उल्टी और दस्त का कारण बनता है। इसे विंटर वॉमिटिंग बग भी कहा जाता है। नोरोवायरस से संक्रमित लोग अरबों वायरस कणों को फैला सकते हैं, लेकिन उनमें से कुछ ही लोगों को बीमार कर सकते हैं।

Bansal Saree

नोरोवायरस क्या है?
रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, नोरोवायरस एक अत्यधिक संक्रामक वायरस है और संयुक्त राज्य में जितनी भी खाद्य जनित बीमारियां (foodborne illnesses) सामने आती हैं, उनमें से आधे से अधिक के लिए यही वायरस जिम्मेदार होता है। नोरोवायरस जो पेट फ्लू के रूप (Stomach Flu) में भी जाना जाता है, यह वास्तव में मौसम से संबंधित बीमारी नहीं है, जो इन्फ्लूएंजा वायरस की वजह से होता है और यह उस वायरस से भी नहीं जुड़ा है जो कोरोना वायरस का कारण बनता है। सीडीसी के मुताबिक, नोरोवायरस के अन्य नाम 'फूड पॉइज़निंग' और 'पेट बग' हैं।

नोरोवायरस से कैसे संक्रमित हो सकते हैं?
नोरोवायरस उस व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है, जो दूषित भोजन या पानी का सेवन करता है या फिर किसी दूषित सतह को छूता है और फिर वही दूषित हाथ मुंह के संपर्क में आ जाते हैं। संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने वाला व्यक्ति भी संक्रमित हो सकता है। यह वायरस वैसे ही फैलता है जैसे बाकी वायरस मनुष्य के संपर्क में आते हैं।

Devi Maa Dental

नोरोवायरस कितना खतरनाक है?
नोरोवायरस से संक्रमित लोगों के मल और उल्टी में यह वायरस पाया जाता है। मल या उल्टी की छोटी मात्रा जो बिना धुले भोजन, दूषित पानी या दूषित सतह पर पाई जा सकती है, के संपर्क में गलती से आने पर लोग इसकी जद में आ जाते हैं। सीडीसी के अनुसार, नोरोवायरस से संक्रमित व्यक्ति इस वायरस के अरबों कणों को छोड़ सकते हैं और किसी अन्य को बीमार करने के लिए उन कणों की थोड़ी मात्रा ही काफी होती है।