यूएई 12 सितंबर से भारत से टीके लगाए गए निवासियों पर यात्रा प्रतिबंध हटाएगा

नई दिल्ली, 10 सितम्बर (आईएएनएस)। संयुक्त अरब अमीरात भारत जैसे देशों से वैध वीजा समेत टीकाकरण वाले निवासियों को 12 सितंबर से लौटने की अनुमति देगा। राष्ट्रीय आपातकालीन संकट और आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनसीईएमए) ने शुक्रवार को इसकी घोषणा की।
 | 
यूएई 12 सितंबर से भारत से टीके लगाए गए निवासियों पर यात्रा प्रतिबंध हटाएगा नई दिल्ली, 10 सितम्बर (आईएएनएस)। संयुक्त अरब अमीरात भारत जैसे देशों से वैध वीजा समेत टीकाकरण वाले निवासियों को 12 सितंबर से लौटने की अनुमति देगा। राष्ट्रीय आपातकालीन संकट और आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनसीईएमए) ने शुक्रवार को इसकी घोषणा की।

अल अरबिया ने बताया, निर्णय में भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका, वियतनाम, नामीबिया, जाम्बिया, डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो, युगांडा, सिएरा लियोन, लाइबेरिया, दक्षिण अफ्रीका, नाइजीरिया और अफगानिस्तान से आने वाले यात्री शामिल हैं।

इसमें वे निवासी भी शामिल हैं जो एनसीईएमए के अनुसार छह महीने से अधिक समय तक विदेश में रहे हैं।

Bansal Saree

बयान के अनुसार, जो लोग किसी भी डब्ल्यूएचओ-अनुमोदित टीकों के साथ पूरी तरह से टीका लगाए गए हैं और जो प्रत्येक देश के लिए निलंबन निर्णय जारी किए जाने के बाद से छह महीने से अधिक समय से निलंबित सूची में से किसी एक देश में रह रहे हैं, वे एक नई प्रविष्टि के तहत देश में आ सकते हैं। यात्रियों को फिर से संयुक्त अरब अमीरात में प्रवेश करने के लिए कुछ प्रक्रियाओं का पालन करना होगा।

पहचान और नागरिकता के लिए संघीय प्राधिकरण (आईसीए) की वेबसाइट के माध्यम से आवेदन करें और आवश्यक अनुमोदन प्राप्त करने के लिए टीकाकरण आवेदन को पूरा करें। उन्हें संयुक्त अरब अमीरात जाने से पहले अनुमोदित टीकाकरण प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होगा।

एक क्यूआर कोड वाली अनुमोदित प्रयोगशाला में उनके प्रस्थान से 48 घंटे के भीतर एक नकारात्मक पीसीआर परीक्षण परिणाम प्रदान करें।

Devi Maa Dental

सभी एहतियाती उपायों का पालन करते हुए बोडिर्ंग से पहले रैपिड पीसीआर टेस्ट और आगमन के चौथे और आठ दिन में दूसरा पीसीआर टेस्ट करें।

एनसीईएमए ने कहा कि 16 साल से कम उम्र के बच्चों को इन प्रक्रियाओं से छूट दी गई है।

इसमें कहा गया है कि उपर्युक्त देशों से आने वाले गैर-टीकाकरण वाले लोगों के लिए पूर्व में घोषित अन्य सभी एहतियाती उपाय यथावत हैं।

--आईएएनएस

आरएचए/एएनएम