युग के प्रश्न का जवाब देने का प्रयास कर रहा है चीन

बीजिंग, 23 जून (आईएएनएस)। दुनिया कहां जा रही है? शांति या युद्ध की ओर? विकास या गिरावट की ओर? खुलेपन या बंद होने की तरफ? सहयोग या टकराव की ओर? 22 जून की रात को आयोजित ब्रिक्स व्यापार मंच के उद्घाटन समारोह में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा दिए गए वीडियो भाषण में युग के प्रश्न किए गए, जो विचारोत्तेजक हैं।
 | 
युग के प्रश्न का जवाब देने का प्रयास कर रहा है चीन बीजिंग, 23 जून (आईएएनएस)। दुनिया कहां जा रही है? शांति या युद्ध की ओर? विकास या गिरावट की ओर? खुलेपन या बंद होने की तरफ? सहयोग या टकराव की ओर? 22 जून की रात को आयोजित ब्रिक्स व्यापार मंच के उद्घाटन समारोह में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा दिए गए वीडियो भाषण में युग के प्रश्न किए गए, जो विचारोत्तेजक हैं।

हमें विश्व शांति और स्थिरता बनाए रखने के लिए एकजुट होकर काम करना चाहिए, हमें एक दूसरे की मदद करने और संयुक्त रूप से वैश्विक सतत विकास को बढ़ावा देने की जरूरत है, हमें एक साथ मिलकर सहयोग और उभय जीत हासिल करने के लिए प्रयास करना चाहिए, और हमें समावेशी होना चाहिए, खुलेपन और एकीकरण का विस्तार करने के लिए मिलकर काम करना चाहिए, शी चिनफिंग ने अपने भाषण में चार सूत्रीय पहल पेश की, जिसने शांति बनाए रखने और विकास को बढ़ावा देने का एक मजबूत संदेश जारी किया, सभी देशों के लोगों की आम आकांक्षाओं को दर्शाया और यह युग के प्रश्न का एक व्यापक उत्तर है। सल्वाडोर संसद के पूर्व सांसद मैनुअल फ्लोरेस ने इस पर टिप्पणी करते हुए कहा कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग के भाषण ने वैश्विक विकास के लिए रास्ता दिखाया।

krishna hospital

विकास का आधार सुरक्षा है। यह कुछ समय पूर्व राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा वैश्विक सुरक्षा पहल प्रस्तुत करने का महत्वपूर्ण कारण है। अपने भाषण में उन्होंने दो विश्व युद्धों और शीत युद्ध के टकराव की समीक्षा करते हुए कहा कि वर्तमान यूक्रेन संकट ने दुनिया के लिए खतरे की घंटी बजा दी है। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से शून्य-जमा खेल को छोड़ने, आधिपत्य और बल की राजनीति का संयुक्त रुप से विरोध करने का आह्वान किया, ताकि शांति की धूप दुनिया को रोशन कर सके।

इटली के अंतरराष्ट्रीय संबंध के विद्वान फैबियो मासिमो पेरेंटी ने कहा कि शांति सबसे बड़ा आशीर्वाद और मानव सह-अस्तित्व का मूल सिद्धांत है। राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा प्रस्तुत मानव जाति के साझा भाग्य वाले समुदाय की विचारधारा समावेशी मानवीय मूल्य है।

विकास शांति की गारंटी है, और विभिन्न समस्याओं को हल करने तथा लोगों की खुशी को साकार करने की कुंजी है। विकास को भी नियमों का पालन करना चाहिए, सहयोग से उभय जीत हासिल की जा सकती है, खुलापन समावेशी हो सकता है, इससे और अधिक देश विकसित हो सकते हैं। लेकिन अमेरिका और कुछ पश्चिमी देशों की कार्रवाइयों से जाहिर होता है कि वे विकास नियमों के खिलाफ आगे बढ़ रहे हैं।

chaitanya

विकास सभी समस्याओं को हल करने की मुख्य कुंजी है, और यह मौजूदा ब्रिक्स सम्मेलन का महत्वपूर्ण विषय भी है। इस साल चीन पांच साल बाद एक बार फिर ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का अध्यक्ष देश बना। साल 2021 में, चीन और ब्रिक्स देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार का कुल मूल्य 4 खरब 90 अरब 42 करोड़ डॉलर था, जिसमें वर्ष 2020 की तुलना में 39.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई। ब्रिक्स सहयोग बहुपक्षवाद की सफलता है, यह विकास प्राथमिकता, जनता की प्रधानता, और आम उदारता व समावेशी का पालन करने का सुफल है। ये सब वैश्विक विकास पहल के मूल विषय हैं, जो वैश्विक विकास समुदाय की स्थापना को आगे बढ़ाने के लिए चीन की कोशिश के साक्षी हैं।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

एएनएम