अफगानिस्तान भूकंप में कई बच्चों के मारे जाने की आशंका

काबुल, 23 जून (आईएएनएस)। अफगानिस्तान में डॉक्टरों का कहना है कि बुधवार को आए भूकंप में कई बच्चों की मौत हो सकती है।
 | 
अफगानिस्तान भूकंप में कई बच्चों के मारे जाने की आशंका काबुल, 23 जून (आईएएनएस)। अफगानिस्तान में डॉक्टरों का कहना है कि बुधवार को आए भूकंप में कई बच्चों की मौत हो सकती है।

बीबीसी ने बताया कि आपदा में 1,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई, जबकि भारी बारिश, दुर्लभ संसाधन और ऊबड़-खाबड़ इलाके बचाव कर्मियों को प्रभावित कर रहे हैं।

कई लोग अभी भी मिट्टी के घरों में दबे हो सकते हैं। संचार नेटवर्क भी बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, पक्तिका प्रांत के एक अस्पताल में एक महिला ने संवाददाताओं से कहा कि भूकंप में उसने अपने परिवार के 19 सदस्यों को खो दिया।

krishna hospital

उन्होंने कहा, एक कमरे में सात, दूसरे में पांच, दूसरे में चार, फिर दूसरे में तीन, मेरे परिवार में सभी मारे गए हैं।

तालिबान अधिकारियों ने और अधिक अंतरराष्ट्रीय सहायता की मांग की है।

संयुक्त राष्ट्र उन लोगों में शामिल है जो पक्तिका के दूरदराज के इलाकों में आपातकालीन आश्रय और खाद्य सहायता प्रदान करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

जीवित बचे लोगों और बचावकर्मियों ने बीबीसी को भूकंप के केंद्र के पास पूरी तरह से नष्ट हो चुके गांवों, बर्बाद सड़कों और मोबाइल फोन टावरों के बारे में बताया है और उन्हें डर है कि मरने वालों की संख्या और बढ़ जाएगी।

अधिकारियों ने बताया कि करीब 1,500 लोग घायल भी हुए हैं।

chaitanya

अब तक पाए गए अधिकांश हताहत पक्तिका के गयान और बरमल जिलों में हुए हैं। स्थानीय लोगों ने बताया कि दर्जनों गांव ध्वस्त हो गए हैं।

शब्बीर नामक एक जीवित व्यक्ति ने बीबीसी को बताया, वहां एक गड़गड़ाहट हुई और मेरा बिस्तर हिलने लगा।

उसने कहा, छत नीचे गिर गई। मैं फंस गया था, लेकिन मैं आकाश देख सकता था। मेरा कंधा हिल गया था, मेरे सिर में चोट लगी थी लेकिन मैं बाहर निकल गया। मुझे यकीन है कि मेरे परिवार के सात या नौ लोग, जो एक ही कमरे में थे, मर चुके हैं।

भूकंप में बुरी तरह घायल हुई छह बच्चों की मां ने कहा कि उनके गांव में कई लोग मारे गए हैं, जिनमें उनके अपने परिवार के सात सदस्य भी शामिल हैं।

उसने कहा, हम बहुत गरीब हैं। हम अपने घरों को फिर से नहीं बना सकते। हमारे पास खाने के लिए कुछ नहीं है।

--आईएएनएस

आरएचए/एएनएम