सुप्रीमकोर्ट ने कहा- देश में इमरजेंसी जैसे हालात, केन्‍द्र सरकार कल तक जवाब दे, लोगों को बचाने का क्‍या प्‍लान है

सुप्रीम कोर्ट ने कल तक मांगा जवाब, महामारी से बचने का प्‍लान बताए सरकार

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। सुप्रीम कोर्ट ने केन्‍द्र सरकार से महामारी से निपटने के लिए प्‍लान मांगा है। सुप्रीम कोर्ट ने स्‍वत: संज्ञान लेते हुए केन्‍द्र सरकार को नोटिस दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने गुरूवार को कहा कि देश में इमरजेंसी जैसे हालात हैं। सरकार के पास महामारी से निपटने के लिए क्‍या प्‍लान है। कोरोना महामारी के संकट को लेकर सुप्रीमकोर्ट के सख्‍त रवैया अपनाने के बाद देश भर में चर्चा छिड़ गयी है। सुप्रीम कोर्ट ने कल शुक्रवार तक केन्‍द्र सरकार से इस मामले पर जवाब मांगा है। सुप्रीम कोर्ट ने केन्‍द्र सरकार को दिए नोटिस में कहा है कि सरकार के पास महामारी से निपटने के क्‍या प्‍लान हैं। क्‍या सरकार कोरोना संकट पर काबू पाने के लिए काम कर रही है। सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस में यह भी कहा है कि देश में इमरजेंसी जैसे हालात पैदा हो गए हैं। ऐसे में सरकार क्‍या कर रही है सरकार के पास क्‍या प्‍लान है। कल शुक्रवार तक सुप्रीम कोर्ट ने केन्‍द्र सरकार से जवाब मांगते हुए कोरोना पर काबू पाने का प्‍लान मांगा है।

Devi Maa Dental

सुप्रीम कोर्ट का केन्‍द्र सरकार को नोटिस मिलने के बाद अब देश भर में इस पर बहस शुरू हो गयी है। सुप्रीमकोर्ट के स्‍वत- संज्ञान लेने के बाद विपक्षी दल भी सरकार पर हमलावर हो गए हैं। देश में आक्‍सीजन की कमी होने पर भी विपक्ष ने सरकार को घेरा है। बंगाल चुनावों में टीएमसी के रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने ट्वीट करके केन्‍द्र सरकार पर निशाना साधा है। प्रशांत किशोर पीके ने ट्वीट कर लिखा है कि प्रधानमंत्री मोदी जी जनता कह रही है धैय बनाए रखने के लिए कम से कम आक्‍सीजन की जरूरत तो है ही।

दिल्‍ली हाईकोर्ट ने भी केन्‍द्र को फटकारा

Bansal Saree

उधर राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में आक्‍सीजन की कमी पर अब दिल्‍ली हाईकोर्ट ने भी केन्‍द्र सरकार को फटकार लगायी है। दिल्‍ली हाईकोर्ट ने गुरूवार को कहा कि दिल्‍ली को केन्‍द्र सरकार तत्‍काल आक्‍सीजन उपलब्‍ध कराए। हाईकोर्ट ने केन्‍द्र सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि देश की राजधानी दिल्‍ली को आक्‍सीजन क्‍यों नहीं मिल पा रही है। हाईकोर्ट ने कहा कि क्‍या केन्‍द्र सरकार राज्‍यों के बीच समन्‍वय नहीं बना पा रही है। दिल्‍ली हाईकोर्ट ने केन्‍द्र सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि केन्‍द्र सरकार दिल्‍ली को समय पर आक्‍सीजन उपलब्‍ध कराए।