ऑक्सीजन की कमी से किसी भी राज्य ने किसी की मौत की खबर नहीं दी : भाजपा

नई दिल्ली, 21 जुलाई (आईएएनएस)। ऑक्सीजन से देश में किसी की मौत नहीं होने वाले सरकार के संसद में दिए बयान पर विपक्षी दलों ने पलटवार किया था। सरकार ने बुधवार को कहा किकिसी भी राज्य सरकार ने ऑक्सीजन की कमी के कारण होने वाली मौतों पर कोई डेटा नहीं भेजा है।
 | 
ऑक्सीजन की कमी से किसी भी राज्य ने किसी की मौत की खबर नहीं दी : भाजपा नई दिल्ली, 21 जुलाई (आईएएनएस)। ऑक्सीजन से देश में किसी की मौत नहीं होने वाले सरकार के संसद में दिए बयान पर विपक्षी दलों ने पलटवार किया था। सरकार ने बुधवार को कहा किकिसी भी राज्य सरकार ने ऑक्सीजन की कमी के कारण होने वाली मौतों पर कोई डेटा नहीं भेजा है।

भगवा पार्टी ने कोविड की मौतों पर राजनीति करने के लिए कांग्रेस नेता राहुल गांधी और विपक्षी दलों की भी आलोचना की। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, किसी भी राज्य ने ऑक्सीजन की कमी से होने वाली मौतों पर कोई डेटा नहीं भेजा है। किसी भी राज्य ने ऑक्सीजन की कमी के कारण किसी की मौत की सूचना नहीं दी है।

Bansal Saree

राज्यसभा में केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार के जवाब का जिक्र करते हुए पात्रा ने कहा, मंत्री ने स्पष्ट रूप से कहा कि स्वास्थ्य राज्य का विषय है, केंद्र केवल राज्यों द्वारा भेजे गए डेटा को एकत्र करता है और मौतों की रिपोर्ट करने के लिए दिशानिर्देश जारी किए जाते हैं। राज्य और केंद्र शासित प्रदेश केंद्र को नियमित आधार पर कोविड के मामलों और मौतों का डेटा प्रदान करते हैं। हालांकि, एक भी राज्य या केंद्रशासित प्रदेश ने अपनी रिपोर्ट में ऑक्सीजन की कमी के कारण किसी भी मौत का उल्लेख नहीं किया है।

पात्रा ने कोविड की मौतों के संवेदनशील मुद्दे पर भ्रम पैदा करने के लिए कांग्रेस नेता राहुल गांधी और आम आदमी पार्टी की खिंचाई की।

उन्होंने कहा, यह निंदनीय है कि ऐसे समय में जब सभी को कोरोना वायरस बीमारी के खिलाफ लड़ाई जीतने के लिए एकजुट होना चाहिए, कुछ नेता गंदी राजनीति कर रहे हैं।

Devi Maa Dental

कांग्रेस नेता को ट्विटर ट्रोल बताते हुए पात्रा ने कहा, चाहे महामारी हो या वैक्सीन का मुद्दा, उन्होंने झूठ बोला और हर विषय पर भ्रम फैलाया। राहुल गांधी ने ट्विटर ट्रोल के रूप में काम करते हुए यही किया है।

पात्रा ने दिल्ली और महाराष्ट्र सरकारों के हलफनामों का हवाला देते हुए कहा कि दोनों प्रशासनों ने उच्च न्यायालयों को सूचित किया कि एक भी मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण नहीं हुई है।

--आईएएनएस

आरएचए/एएनएम