विश्वविद्यालय के 85 प्रतिशत छात्रों को पिछले एक साल में लर्निग लॉस का सामना करना पड़ा

नई दिल्ली, 14 जुलाई (आईएएनएस)। भारत के विश्वविद्यालय प्रणाली पर कोविड-19 के गहरे और दर्दनाक प्रभाव को देखते हुए टीमलीज एडटेक की एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले एक साल में विश्वविद्यालय के 85 प्रतिशत छात्रों को लर्निग लॉस का सामना करना पड़ा है।
 | 
विश्वविद्यालय के 85 प्रतिशत छात्रों को पिछले एक साल में लर्निग लॉस का सामना करना पड़ा नई दिल्ली, 14 जुलाई (आईएएनएस)। भारत के विश्वविद्यालय प्रणाली पर कोविड-19 के गहरे और दर्दनाक प्रभाव को देखते हुए टीमलीज एडटेक की एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले एक साल में विश्वविद्यालय के 85 प्रतिशत छात्रों को लर्निग लॉस का सामना करना पड़ा है।

कॉलेज जाने वाले छात्रों का मानना है कि उन्हें कोविड के कारण 40 से 60 प्रतिशत लर्निग लॉस का सामना करना पड़ा है। विश्वविद्यालय के लीडर्स का कहना है कि नुकसान 30 से 40 फीसदी तक हुआ है।

डिजिटल डिवाइड, सरकारी संस्थानों में धीमा गवर्नेस, पहले से मौजूद क्षमता की कमी, अधिकांश देशों की तुलना में लंबे समय तक लॉकडाउन और कमजोर सामग्री के कारण लर्निग लॉस हुआ है।

Bansal Saree

कोविड -19 महामारी का 220 मिलियन छात्रों पर गंभीर प्रभाव पड़ा है क्योंकि 175 देशों के विश्वविद्यालयों ने अपने परिसर बंद कर दिए हैं और देशों ने अपनी सीमाएं बंद कर दी हैं। हालांकि उच्च शिक्षा संस्थानों ने ऑनलाइन शिक्षण के साथ व्याख्यानों को अपनाया है। लेकिन इनसब ने सीखने की प्रक्रियाएं और परीक्षाओं को प्रभावित किया है।

ऑनलाइन शिक्षा की ओर ले जाने वाले बंद संस्थानों ने इक्विटी, ब्रॉडबैंड क्षमता, शैक्षणिक क्षमता, बुनियादी ढांचे आदि के मामले में दूरस्थ वितरण में चुनौतियों का सामना किया।

महामारी के कारण उत्पन्न व्यवधान और शिक्षा संस्थानों की कमियों ने 23.8 मिलियन बच्चों और युवाओं को प्रभावित किया और 63 प्रतिशत लर्निग लॉस देखा गया।

Devi Maa Dental

--आईएएनएस

आरएचए/एएनएम