विद्यांचल कॉरिडोर परियोजना की आधारशिला रखेंगे शाह

मिर्जापुर (उत्तर प्रदेश), 22 जुलाई (आईएएनएस)। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 1 अगस्त को मिर्जापुर में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में 150 करोड़ रुपये की लागत वाली विंध्याचल कॉरिडोर परियोजना का शिलान्यास करेंगे।
 | 
विद्यांचल कॉरिडोर परियोजना की आधारशिला रखेंगे शाह मिर्जापुर (उत्तर प्रदेश), 22 जुलाई (आईएएनएस)। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 1 अगस्त को मिर्जापुर में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में 150 करोड़ रुपये की लागत वाली विंध्याचल कॉरिडोर परियोजना का शिलान्यास करेंगे।

संभागायुक्त मिर्जापुर योगेश्वर राम मिश्रा ने कहा, प्राप्त संभावित कार्यक्रम के अनुसार केंद्रीय गृह मंत्री महत्वाकांक्षी विंध्याचल कॉरिडोर परियोजना का शिलान्यास करने के लिए एक अगस्त को विंध्याचल में रहेंगे। उनके साथ मुख्यमंत्री भी मौजूद रहेंगे। प्रस्तावित कॉरिडोर के डिजाइन को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

Bansal Saree

आयुक्त के अनुसार, लगभग 150 करोड़ रुपये की परियोजना शुरू होने के लिए तैयार है, क्योंकि विंध्याचल मंदिर के आसपास के 92 भवनों को हटाने का काम पूरा हो चुका है और मुआवजे का भुगतान किया जा चुका है।

यह परियोजना 50 फीट चौड़ा परिक्रमा मार्ग बनाएगी और आगंतुकों को पवित्र मंदिर का पूरा दृश्य मिलेगा, जिसे शक्तिपीठों में से एक के रूप में जाना जाता है।

Devi Maa Dental

विंध्याचल कॉरिडोर को काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर प्रोजेक्ट की तर्ज पर विकसित किया जा रहा है।

अधिकारियों ने कहा कि विंध्याचल कॉरिडोर परियोजना का उद्देश्य भीड़भाड़ को समाप्त करना और तीर्थयात्रियों के लिए विश्व स्तरीय सुविधाओं की व्यवस्था करना है।

मिश्रा ने कहा, शुरुआती चरण में 50 फीट चौड़ी परिक्रमा मार्ग बनाने के लिए 20 करोड़ रुपये के बजट से 92 भवनों को खरीद कर हटाने का काम पूरा कर लिया गया है। 206 भवनों के स्वामियों को 33.7 करोड़ रुपये की राशि मुआवजा दिया गया है। चार मार्गों को चौड़ा करने के लिए इनके घरों और भवनों के कुछ हिस्सों को तोड़ने के लिए यह राशि दी गई है।

उन्होंने आगे कहा कि कोतवाली गली और हनुमान तिराहा के बीच गली को चौड़ा करने के लिए, इमारतों के सीमांकित हिस्से के विध्वंस के लिए मुआवजे के रूप में 27.35 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया गया था।

इस परियोजना में विंध्याचल मंदिर को गंगा नदी, सदर बाजार और पुरानी और नई वीआईपी सड़कों से जोड़ने वाली सड़कों का चौड़ीकरण भी शामिल है।

बुनियादी ढांचे में सुधार और तीर्थयात्रियों के लिए पार्किं ग जोन, गेस्ट हाउस, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स और रिटायरिंग रूम सहित आधुनिक सुविधाएं लाना भी परियोजना का हिस्सा है।

--आईएएनएस

आरएचए/एएनएम