लखीमपुर कांड के विरोध में महाराष्ट्र बंद, आम जनजीवन अस्त-व्यस्त

मुंबई, 11 अक्टूबर (आईएएनएस)। लखीमपुर घटना के विरोध में महाराष्ट्र में आज महाराष्ट्र बंद का ऐलान किया गया है। यहां भाजपा के खिलाफ सभी विपक्षी पार्टियों ने बंद का ऐलान किया है जिसके तहत पूरे महाराष्ट्र में आज लखीमपुर कांड के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन जारी है। बंद के दौरान हिंसा की छिटपुट घटनाएं जैसे बसों, निजी वाहनों पर पथराव, यातायात रोकने के लिए सड़कों पर टायर जलाने जैसी घटनाओं के कारण आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया।
 | 
लखीमपुर कांड के विरोध में महाराष्ट्र बंद, आम जनजीवन अस्त-व्यस्त मुंबई, 11 अक्टूबर (आईएएनएस)। लखीमपुर घटना के विरोध में महाराष्ट्र में आज महाराष्ट्र बंद का ऐलान किया गया है। यहां भाजपा के खिलाफ सभी विपक्षी पार्टियों ने बंद का ऐलान किया है जिसके तहत पूरे महाराष्ट्र में आज लखीमपुर कांड के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन जारी है। बंद के दौरान हिंसा की छिटपुट घटनाएं जैसे बसों, निजी वाहनों पर पथराव, यातायात रोकने के लिए सड़कों पर टायर जलाने जैसी घटनाओं के कारण आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया।

स्वैच्छिक बंद का आह्वान सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी के सहयोगियों - शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, कांग्रेस, भाकपा, सीपीएम, ट्रेड यूनियनों, किसान समूहों, छात्रों, महिलाओं और अन्य समूहों, विपक्षी भारतीय जनता पार्टी को छोड़कर, सभी पार्टियों द्वारा आयोजित किया गया है।

Bansal Saree

बंद उत्तर प्रदेश में लखीमपुर-खीरी हत्याकांड के विरोध में है और दिल्ली और भारत के अन्य हिस्सों के पास विरोध कर रहे किसानों के साथ एकजुटता व्यक्त करता है।

बंद के दौरान शहर की जीवन रेखा बेस्ट सेवाएं सड़कों से दूर ही रहीं, अंतर-जिला राज्य परिवहन बसें भी प्रभावित हुईं, लेकिन उपनगरीय ट्रेनें सामान्य रूप से काम करती दिखीं। हालांकि कम यात्री भार के साथ और अन्य सभी आवश्यक सेवाओं को बंद से छूट दी गई है।

महाराष्ट्र पुलिस और अन्य सभी सुरक्षा बलों ने राज्य भर में किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए भारी बंदोबस्त तैनात किया है और गृह राज्य मंत्री दिलीप वालसे-पाटिल ने विघटनकारी कृत्यों में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी दी है।

हालांकि, मुंबई के विभिन्न हिस्सों में लगभग आधा दर्जन बेस्ट बसों पर पथराव किया गया। कुछ गैर-जरूरी निजी वाहनों को बाहर निकलने से रोकने के लिए रोड-ब्लॉक और टायर में आग लगाने की भी खबरें सामने आई हैं।

Devi Maa

राज्य, क्षेत्र और जिला स्तर पर शिवसेना के संजय राउत, किशोर तिवारी, राकांपा के जयंत पाटिल, नवाब मलिक, कांग्रेस के नाना पटोले, बालासाहेब थोराट, भाई जगताप और अन्य शीर्ष नेताओं ने केंद्र और यूपी की बीजेपी सरकारों के खिलाफ जमकर नारे नारे लगाकर बंद का नेतृत्व किया।

एपीएमसी के शटर डाउन करने के साथ ग्रामीण केंद्रों से शटडाउन को भारी प्रतिक्रिया मिली, हालांकि शहरी केंद्रों में सड़कों पर कुछ वाहन देखे गए क्योंकि सार्वजनिक परिवहन काफी हद तक ठप हो गया था।

कुछ इलाकों में स्थानीय दुकानदारों ने शिकायत की कि सत्ता पक्ष के कार्यकर्ताओं ने उन्हें दुकानें बंद करने और बंद में शामिल होने के लिए मजबूर किया।

पिछले हफ्ते, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में राज्य मंत्रिमंडल ने लखीमपुर-खीरी पीड़ितों की याद में दो मिनट का मौन रखा था और बाद में सत्तारूढ़ गठबंधन ने महाराष्ट्र बंद की घोषणा की थी।

--आईएएनएस

एसकेके/आरजेएस