राष्ट्र के नायक और नायिकाओं से देश की कई पीढ़ियों को वंचित रखा गया : प्रधानमंत्री (लीड-1)

अलीगढ़, 14 सितम्बर (आईएएनएस)। प्रतीकों की राजनीति के माहिर माने जाने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अलीगढ़ से पूरे पश्चिम यूपी को साधने की कोशिश की है। इस दौरान उन्होंने विपक्षियों पर निशाना साधते हुए कहा कि भारत का इतिहास ऐसे राष्ट्र भक्तों से भरा पड़ा है। ऐसे आजादी के दीवानों ने अपना सब कुछ खपा दिया, लेकिन ये देश का दुर्भाग्य रहा कि आजादी के बाद ऐसे राष्ट्र नायक और नायिकाओं की तपस्या से देश की अगली पीढ़ियों को परिचित ही नहीं कराया गया।
 | 
राष्ट्र के नायक और नायिकाओं से देश की कई पीढ़ियों को वंचित रखा गया : प्रधानमंत्री (लीड-1) अलीगढ़, 14 सितम्बर (आईएएनएस)। प्रतीकों की राजनीति के माहिर माने जाने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अलीगढ़ से पूरे पश्चिम यूपी को साधने की कोशिश की है। इस दौरान उन्होंने विपक्षियों पर निशाना साधते हुए कहा कि भारत का इतिहास ऐसे राष्ट्र भक्तों से भरा पड़ा है। ऐसे आजादी के दीवानों ने अपना सब कुछ खपा दिया, लेकिन ये देश का दुर्भाग्य रहा कि आजादी के बाद ऐसे राष्ट्र नायक और नायिकाओं की तपस्या से देश की अगली पीढ़ियों को परिचित ही नहीं कराया गया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को अलीगढ़ में राजा महेन्द्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास करने के साथ ही उत्तर प्रदेश डिफेंस कारिडोर के अलीगढ़ नोड की कार्य प्रगति की समीक्षा भी की। उन्होंने कहा कि राजा महेन्द्र प्रताप सिंह विश्वविद्यालय आधुनिक शिक्षा का एक बड़ा केन्द्र बनेगा। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के लिए बड़ी जमीन राजा महेन्द्र प्रताप सिंह जी ने दी थी। उनके नाम से बनने वाले विश्वविद्यालय के इस विचार को साकार करने के लिए योगी जी और उनकी टीम को बधाई। मेरे जीवन का सौभाग्य है कि मुझे राजा महेन्द्र प्रताप सिंह जी के नाम से इस विश्वविद्यालय के शिलान्यास करने का मौका मिला राष्ट्र नायक और राष्ट्र नायिकाओं की गाथाओं को जानने से देश की कई पीढ़ियां वंचित रह गईं। 20वीं सदी की उन गलतियों को आज 21वीं सदी का भारत सुधार रहा है। हमारी आजादी के आंदोलन में ऐसे कितने ही महान व्यक्तित्वों ने अपना सब कुछ खपा दिया। लेकिन ये देश का दुर्भाग्य रहा कि ऐसे राष्ट्र नायक और राष्ट्र नायिकाओं की तपस्या से देश की अगली पीढ़ियों को परिचित ही नहीं कराया गया।

Bansal Saree

प्रधानमंत्री ने युवाओं को राजा महेन्द्र प्रताप सिंह से परिचित कराने के साथ ही अलीगढ़ की महत्ता पर भी प्रकाश डाला। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्य की काफी प्रशंसा करने के साथ ही कहा कि यूपी में निवेश का माहौल बना तो बड़ी संख्या में निवेशक आने लगे। जिससे कि देश का गौरव बढ़ेगा।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने ओडीओपी के तहत सरकार ने तालों व हार्डडवेयर को नई पहचान दिलाने का काम किया है। इसे उद्योगों व एसएमएसई को विशेष लाभ होगा अगले कुछ सालों में 900 निवेश होगा। यूपी डिफेंस कारिडोर बड़े निवेश व रोजगार के बड़े अवसर लेकर आ रहा है यह तब होता है, जब निवेश के लिए जरूरी माहौल बनता है। इसके साथ ही देश में डिफेंस से जुड़ी पढ़ाई, डिफेंस से जुड़ी मैन्युफैक्च रिंग और मैनपावर बनाने वाला सेंटर भी बनेगा। आजादी के इतने वर्षों बाद भी हमारी छवि एक डिफेंस इंपोर्टर की है। इस छवि से बाहर निकलकर दुनिया के अहम डिफेंस एक्सपोर्टर बनाने के संकल्प के साथ भारत आगे बढ़ रहा है।

Devi Maa Dental

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज अलीगढ़ व पश्चिमी यूपी के लिए बड़ा दिन है। आज राधाष्टमी है। हमारे संस्कार है, जब शुभ कार्य होता है तो अपने बड़े याद आते हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि मैं तो आज इस धरती के महान सपूत, स्वर्गीय कल्याण सिंह जी की अनुपस्थिति बहुत ज्यादा महसूस कर रहा हूं। आज कल्याण सिंह जी हमारे साथ होते तो राजा महेन्द्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय और डिफेंस सेक्टर में बन रही अलीगढ़ की नई पहचान को देखकर बहुत खुश होते। राजा महेन्द्र प्रताप सिंह सिर्फ भारत की आजादी के लिए ही नहीं लड़े। उन्होंने भारत के भविष्य की नींव में भी सक्रिय योगदान दिया था। उन्होंने अपने देश-विदेश की यात्राओं से मिले अनुभवों का उपयोग भारत की शिक्षा व्यवस्था को आधुनिक बनाने के लिए किया। राजा महेन्द्र प्रताप ने वृंदावन में आधुनिक टेक्निकल कॉलेज को अपनी पैतृक संपत्ति को दान करके बनाया था।

उन्होंने कहा कि अभी तक लोग अपने घर की, अपनी दुकान की सुरक्षा के लिए अलीगढ़ के भरोसे रहते थे। क्योंकि अलीगढ़ का ताला अगर लगा होता था, तो लोग निश्चिंत हो जाते थे। 55-60 साल पुरानी बात है, हम बच्चे थे। तो अलीगढ़ से ताले के सेल्समैन थे, वह हर तीन महीने में हमारे गांव आते थे। वह ताला रख जाते थे, तीन महीने बाद पैमेंट ले जाते थे। चार-छह दिन हमारे गांव में रुकते थे। जो पैसे वसूलकर लाते थे, वह मेरे पिता के पास रख जाते थे। गांव छोड़कर जाते थे, वह पिता जी से ले जाते थे। हम तो सीतापुर व अलीगढ़ शहर सुनते थे। कल तक जो अलीगढ़ दुकानों की रक्षा करता था, अब 21 वीं सदी में देश की सीमाओं की रक्षा करने का काम करेगा। यहां ऐसे आयुध बनेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज देश ही नहीं, दुनिया भी देख रही है, कि रायफल से लेकर लड़ाकू विमान युद्धपोत यह सब भारत में ही बनाने का अभियान चल रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी राजा महेंद्र प्रताप सिंह के अलावा जाट आइकॉन और किसानों की आवाज उठाने वाले सर छोटूराम का जिक्र किया तो वहीं पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह के प्रयासों की भी जमकर तारीफ की। पीएम मोदी ने इस मंच से भले ही किसान आंदोलन को लेकर कुछ नहीं कहा, लेकिन इशारों में पश्चिम यूपी और जाट बिरादरी को साधने की कोई कसर नहीं छोड़ी।

--आईएएनएस

विकेटी/एएनएम