मप्र में 15 सितंबर से खुलेंगे कॉलेज

भोपाल, 9 सितंबर (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश में कोरेाना संक्रमण की कमजोर पड़ती रफ्तार के बीच हालात सामान्य हो चले हैं, स्कूलों में पढ़ाई शुरु हो गई है, वहीं 15 सितंबर से कॉलेज भी खोले जा रहे हैं।
 | 
मप्र में 15 सितंबर से खुलेंगे कॉलेज भोपाल, 9 सितंबर (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश में कोरेाना संक्रमण की कमजोर पड़ती रफ्तार के बीच हालात सामान्य हो चले हैं, स्कूलों में पढ़ाई शुरु हो गई है, वहीं 15 सितंबर से कॉलेज भी खोले जा रहे हैं।

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने बताया कि प्रदेश के समस्त विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय की शैक्षणिक गतिविधियां 15 सितंबर से विद्यार्थियों की उपस्थिति के साथ प्रारंभ होंगी। सभी महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में शैक्षणिक तथा अशैक्षणिक स्टॉफ की शत-प्रतिशत उपस्थिति होगी। वहीं विद्यार्थियों की 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ कक्षाओं का संचालन होगा।

Bansal Saree

डॉ. यादव ने बताया कि महाविद्यालय के शैक्षणिक एवं अशैक्षणिक स्टॉफ तथा विद्यार्थियों को कोविड-19 प्रथम डोज टीकाकरण का प्रमाण-पत्र जमा कराना अनिवार्य होगा।

मंत्री यादव ने विद्यार्थी संख्या अधिक होने की स्थिति में प्रत्येक स्तर पर कोविड-19 के सुरक्षा मानकों के आधार पर पृथक-पृथक समूह बनाकर प्रायोगिक एवं शैक्षणिक कार्यों को संपादित करने के निर्देश दिये हैं।

उन्होंने कहा कि इस संबंध में अधोसंरचना की उपलब्धता एवं स्थानीय परिस्थिति के अनुसार संबंधित संस्था प्रमुख निर्णय लेंगे। शिक्षण संस्थाओं द्वारा ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन भी जारी रहेगा। शिक्षण संस्थाओं द्वारा ऑफलाइन एवं ऑनलाइन कक्षाओं के लिए अलग-अलग समय-सारणी बनाये जाने के निर्देश दिए हैं।

Devi Maa Dental

विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में छात्रावास और मेस भी प्रारंभ होंगे। छात्रावास चरणबद्ध रूप से प्रारंभ किये जायेंगे। प्रथम चरण में स्नातक अंतिम वर्ष एवं स्नातकोत्तर तृतीय सेमेस्टर के छात्रों के लिये छात्रावास खोले जायेंगे। छात्रावास परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजेशन एवं सभी विद्यार्थी की थर्मल स्क्रीनिंग सुनिश्चित की जायेगी। डायनिंग हॉल, रसोई, स्नानागार और शौचालय की स्वच्छता की सतत निगरानी होगी। छात्रावास में विश्वविद्यालय व महाविद्यालय के स्टॉफ के अतिरिक्त अनावश्यक लोगों का प्रवेश वर्जित होगा। विद्यार्थियों के घोषणा-पत्र एवं माता-पिता व अभिभावकों की लिखित सहमति के आधार पर ही विद्यार्थी को छात्रावास की सुविधा उपलब्ध होगी।

--आईएएनएस

एसएनपी/एएनएम