भारतीय रॉकेट स्टार्टअप स्काईरूट ने अंतरिक्ष विभाग के साथ किया समझौता

चेन्नई, 11 सितंबर (आईएएनएस)। निजी रॉकेट स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस प्राइवेट लिमिटेड और अंतरिक्ष विभाग ने शनिवार को एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।
 | 
भारतीय रॉकेट स्टार्टअप स्काईरूट ने अंतरिक्ष विभाग के साथ किया समझौता चेन्नई, 11 सितंबर (आईएएनएस)। निजी रॉकेट स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस प्राइवेट लिमिटेड और अंतरिक्ष विभाग ने शनिवार को एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।

एमओयू के अनुसार, स्काईरूट एयरोस्पेस अपने रॉकेट के सबसिस्टम/सिस्टम के विकास और परीक्षण के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की सुविधाओं और विशेषज्ञता का उपयोग कर सकता है।

इसरो ने कहा, समझौता ज्ञापन कंपनी को कई परीक्षण करने और विभिन्न इसरो केंद्रों पर सुविधाओं तक पहुंचने में सक्षम करेगा और अपने अंतरिक्ष प्रक्षेपण वाहन प्रणालियों और उप प्रणालियों के परीक्षण और योग्यता के लिए इसरो की तकनीकी विशेषज्ञता का लाभ उठाने में सक्षम करेगा।

Bansal Saree

स्काईरूट एयरोस्पेस के सीईओ पवन चंदना ने कहा, इस साल की शुरुआत में एनडीए (गैर-प्रकटीकरण समझौते) पर हस्ताक्षर करने के बाद इसरो के साथ काम करने के महीनों के बाद, हम स्काईरूट एयरोस्पेस में रॉकेट हार्डवेयर के परीक्षण के लिए पहले समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के साथ भारत में निजी अंतरिक्ष गतिविधियों के लिए विकसित ढांचे का हिस्सा बने हैं।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम