बिहार : तेजप्रताप ने निकाली जनशक्ति यात्रा, गांधी मैदान से नंगे पैर चलकर पहुंचे चरखा समिति

पटना, 11 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने लगता है कि अब अलग राह पकड़ ली है। तेजप्रताप सोमवार को पटना में जनशक्ति यात्रा निकाली। इस यात्रा में तेजप्रताप नंगे पैर गांधी मैदान से चलकर चरखा समिति पहुंचे, जहां लोकनायक जयप्रकाश नारायण का आवास है।
 | 
बिहार : तेजप्रताप ने निकाली जनशक्ति यात्रा, गांधी मैदान से नंगे पैर चलकर पहुंचे चरखा समिति पटना, 11 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने लगता है कि अब अलग राह पकड़ ली है। तेजप्रताप सोमवार को पटना में जनशक्ति यात्रा निकाली। इस यात्रा में तेजप्रताप नंगे पैर गांधी मैदान से चलकर चरखा समिति पहुंचे, जहां लोकनायक जयप्रकाश नारायण का आवास है।

इस दौरान उन्होंने कहा कि वे लालू प्रसाद आंदेालन करेंगे। उन्होंने कहा कि छात्र और जनता ही मेरी पार्टी हैं।

राजद से नाराज बताए जा रहे तेजप्रताप सोमवार को अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जयप्रकाश नारायण की जयंती के मौके पर गांधी मैदान पहुंचे और जनशक्ति यात्रा पर निकले।

Bansal Saree

इस यात्रा में उनके साथ उनके संगठन छात्र जनशक्ति परिषद के सैकडों कार्यकर्ता शामिल थे। तेजप्रताप की यह यात्रा जेपी आवास (चरखा समिति) पहुंचकर समाप्त हो गई। तेजप्रताप ने यहां जेपी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और उन्हें याद किया। इस दौरान उन्होंने बैठकर कुछ देर चिंतन भी किया।

इस मौके पर जेपी के बताए रास्ते पर चलने का संकल्प लेते हुए उन्होंने कहा कि हमारे पिताजी (लालू प्रसाद) ने छात्र आन्दोलन में जेपी का साथ दिया था, जेल भरो आंदेालन चला था। उन्होंने कहा कि बिहार में शिक्षा, रोजगार, भ्रष्टाचार के मुद्दे पर जिस तरह उन्होंने आंदोलन चलाने का काम किया था वैसे ही अब छात्रों, युवाओं को एकजुट कर लालू प्रसाद आंदोलन चलाया जाएगा।

Devi Maa

राजद से अलग होने के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि छात्र और जनता ही मेरी पार्टी है। उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि जिसको जो कहना है कहें। उन्होंने आगे यह भी कहा कि आज के दिन कोई राजनीतिक बात नहीं करूंगा।

उल्लेखनीय है कि तेजप्रताप अपना अलग संगठन छात्र जनशक्ति परिषद बनाया है। इसके बाद राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने उनके राजद में ही रहने पर सवाल उठा दिए थे।

--आईएएनएस

एमएनपी/एएनएम