नीट पैनल: भाजपा की याचिका पर हाईकोर्ट के फैसले को लेकर अभियान छेड़ेगी द्रमुक

चेन्नई, 14 जुलाई (आईएएनएस)। द्रमुक ने तमिलनाडु के राज्य भाजपा सचिव के. नागराजन द्वारा नीट के सामाजिक और आर्थिक छात्रों पर होने वाले प्रभाव को लेकर गठित कमेटी का विरोध करने के लिए मद्रास उच्च न्यायालय में दायर एक जनहित याचिका (पीआईएल) को खारिज करने पर इस मुद्दे को लेकर राज्य भर में अभियान छेड़ने का फैसला किया है।
 | 
नीट पैनल: भाजपा की याचिका पर हाईकोर्ट के फैसले को लेकर अभियान छेड़ेगी द्रमुक चेन्नई, 14 जुलाई (आईएएनएस)। द्रमुक ने तमिलनाडु के राज्य भाजपा सचिव के. नागराजन द्वारा नीट के सामाजिक और आर्थिक छात्रों पर होने वाले प्रभाव को लेकर गठित कमेटी का विरोध करने के लिए मद्रास उच्च न्यायालय में दायर एक जनहित याचिका (पीआईएल) को खारिज करने पर इस मुद्दे को लेकर राज्य भर में अभियान छेड़ने का फैसला किया है।

नीट को लेकर छात्रों के उपर उसके सामाजिक और आर्थिक पहलुओं को ध्यान में रखते हुए (सेवानिवृत्त) ए के राजन छात्रों पर उसके प्रभाव का अध्ययन करेंगे।

Bansal Saree

मुख्य न्यायाधीश, संजीव बनर्जी और न्यायमूर्ति सेंथिलकुमार राममूर्ति की मद्रास उच्च न्यायालय की पहली पीठ ने मंगलवार को यह कहते हुए जनहित याचिका को खारिज कर दिया था कि राज्य सरकार को सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों पर नीट के प्रभाव का अध्ययन करने के लिए ऐसी समिति गठित करने का पूरा अधिकार है।

मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन ने मंगलवार को एक प्रेस बयान में कहा था कि मद्रास उच्च न्यायालय के फैसले ने भाजपा और उसकी साइड किक, अन्नाद्रमुक का पर्दाफाश कर दिया था और कहा कि न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) ए.के. राजन कमेटी को 86,000 से ज्यादा लोगों के व्यूज मिल चुके हैं। स्टालिन ने अपने बयान में यह भी कहा कि मद्रास उच्च न्यायालय के फैसले ने आर्थिक और पिछड़े वर्ग के छात्रों पर थोपी गई नीट परीक्षाओं पर राज्य सरकार की लड़ाई को बल दिया है।

Devi Maa Dental

डीएमके नेताओं ने फैसले के तुरंत बाद मंगलवार को ऑनलाइन मीटिंग की और भाजपा और अन्नाद्रमुक के खिलाफ राज्य भर में प्रचार करने का फैसला किया, वे कहते हैं कि नीट परीक्षा पर आम लोगों के विचारों को सुनने के लिए एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में एक समिति गठित करने के राज्य सरकार के उपाय को विफल करने की कोशिश कर रहे हैं।

द्रमुक ने अपने घटक सहयोगियों के साथ गठबंधन करने और भाजपा और अन्नाद्रमुक द्वारा किए गए जन-विरोधी और गरीब-विरोधी उपायों पर जमीनी स्तर पर अभियान चलाने के लिए सर्वदलीय जिला सचिवों की भी प्रतिनियुक्ति की है।

इरोड के एक कार्यकर्ता और सामाजिक और आर्थिक अध्ययन केंद्र के अध्यक्ष राधाकृष्णन स्वामीनाथन ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, यह वास्तव में मद्रास उच्च न्यायालय में द्रमुक के लिए एक बड़ी जीत थी और अदालत ने एक स्पष्ट टिप्पणी की थी कि संविधान का संविधान एनईईटी के प्रभाव का अध्ययन करने के लिए एक समिति सुप्रीम कोर्ट की अवज्ञा में नहीं है। मुख्यमंत्री स्टालिन का बयान इस बात का संकेत है कि डीएमके विशेष रूप से एआईएडीएमके को निशाना बनाएगी क्योंकि बीजेपी तमिलनाडु में एक ताकत नहीं है।

12 सितंबर को नीट की परीक्षा आयोजित की जाएगी और तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री ने खुद छात्रों से परीक्षाओं की तैयारी करने का आह्वान किया है। सरकार को परीक्षाओं के संचालन पर बहुत कुछ नहीं करना है, लेकिन राज्य भर में अन्नाद्रमुक और भाजपा के खिलाफ अभियान चलाकर, वह अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ रणनीतिक जीत की उम्मीद कर रही है।

--आईएएनएस

एचके/आरजेएस