टीटीडी ने आंध्र के मंदिरों में फूलों से बनी अगरबत्ती पेश की

तिरुपति, 13 सितम्बर (आईएएनएस)। तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) ने सोमवार को आंध्र प्रदेश में अपने नियंत्रण वाले मंदिरों में देवताओं को चढ़ाए गए पुष्प चढ़ाने से उत्पादित अगरबत्ती पेश की। टीटीडी के चेयरमैन वाईवी सुब्बा रेड्डी ने एसवी गोशाला में इन अगरबत्तियों की बिक्री शुरू की।
 | 
टीटीडी ने आंध्र के मंदिरों में फूलों से बनी अगरबत्ती पेश की तिरुपति, 13 सितम्बर (आईएएनएस)। तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) ने सोमवार को आंध्र प्रदेश में अपने नियंत्रण वाले मंदिरों में देवताओं को चढ़ाए गए पुष्प चढ़ाने से उत्पादित अगरबत्ती पेश की। टीटीडी के चेयरमैन वाईवी सुब्बा रेड्डी ने एसवी गोशाला में इन अगरबत्तियों की बिक्री शुरू की।

भगवान वेंकटेश्वर के निवास स्थान तिरुमाला की सात पहाड़ियों को दर्शाने के लिए फूलों पर आधारित अगरबत्ती को सात ब्रांडों के तहत सात प्रकारों में पेश किया गया है। सात ब्रांड हैं अभयहस्त, तंदनाना, दिव्यपाद, आकृति, सृष्टि, तुष्टि और ²ष्टि।

टीटीडी ने अगरबत्ती बनाने के लिए बेंगलुरु स्थित दर्शन इंटरनेशनल के साथ करार किया है। अगरबत्ती बनाने वाली कंपनी पुष्प आधारित अगरबत्ती बनाने के लिए जनशक्ति और मशीनरी उपलब्ध कराएगी।

Bansal Saree

इस अवसर पर सुब्बा रेड्डी ने कहा, इन अगरबत्तियों के लिए कच्चा माल टीटीडी मंदिरों और समारोहों में देवताओं की पूजा और अन्य सजावटी उद्देश्यों के लिए माला में इस्तेमाल होने वाले फूलों से प्राप्त किया जाता है। इन फूलों को मंदिर के कार्यों में उपयोग करने के अगले दिन फेंक दिया जाता है।

अगरबत्ती तिरुमाला में लड्डू बिक्री काउंटरों पर बेची जा रही है। आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले में स्थित, तिरुमाला हिल्स में भगवान वेंकटेश्वर का मंदिर है। इस मंदिर को दुनिया के सबसे अमीर हिंदू मंदिर के रूप में जाना जाता है।

--आईएएनएस

एनपी/आरजेएस