ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनावों में भारी हार के बाद अन्नाद्रमुक का गिरा मनोबल

चेन्नई, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। तमिलनाडु के नौ जिलों में ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनावों में भारी हार से अन्नाद्रमुक का मनोबल प्रभावित हुआ है । पार्टी नेता मानते हैं कि पार्टी को द्रमुक के खिलाफ अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए अपनी रणनीति पर फिर से काम करना होगा।
 | 
ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनावों में भारी हार के बाद अन्नाद्रमुक का गिरा मनोबल चेन्नई, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। तमिलनाडु के नौ जिलों में ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनावों में भारी हार से अन्नाद्रमुक का मनोबल प्रभावित हुआ है । पार्टी नेता मानते हैं कि पार्टी को द्रमुक के खिलाफ अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए अपनी रणनीति पर फिर से काम करना होगा।

तमिलनाडु राज्य चुनाव आयोग ने घोषणा की है कि द्रमुक ने 140 जिला पंचायत संघ सीटों में से 138 पर जीत हासिल की है या आगे चल रही है, जिसमें अन्नाद्रमुक सिर्फ 2 सीटें जीत रही है। पंचायत यूनियन वार्ड सदस्य सीटों में डीएमके ने 1,009 सीटों पर जीत हासिल की है या आगे चल रही है, जबकि अन्नाद्रमुक के पास 1,381 सीटों में से केवल 218 सीटें आई हैं।

Bansal Saree

अन्नाद्रमुक के कार्यकर्ता निजी तौर पर स्वीकार करते हैं कि शीर्ष नेतृत्व के बीच फूट और उचित रणनीति की कमी के कारण पार्टी का प्रदर्शन खराब रहा है। पार्टी कार्यकर्ताओं का मानना है कि एमजीआर और जयललिता के समय में अन्नाद्रमुक का प्रमुख मुद्दा द्रमुक के खिलाफ कड़ा रुख होता था, लेकिन पिछले पांच वर्षों में जयललिता के निधन के बाद अन्नाद्रमुक ने अपनी जमीनी ताकत खो दी है।

चेंगलपट्टू जिले के पम्मल में स्थानीय स्तर के अन्नाद्रमुक पदाधिकारी, एम. सेल्वापंडी ने आईएएनएस से कहा, हमने ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनावों में अपनी रणनीति खो दी है, लेकिन मुझे यकीन है कि पार्टी अगले विधानसभा चुनावों में सत्ता में वापस आएगी। रणनीति पर ठीक से दोबारा काम करना होगा। एक राजनीतिक दल के रूप में अन्नाद्रमुक हमेशा द्रमुक विरोधी बयानबाजी से बचती रही है और यह पिछले पांच वर्षों से जमीनी स्तर से गायब है, जिससे कार्यकर्ताओं का मनोबल गिर रहा है।

Devi Maa Dental

अन्नाद्रमुक का प्रमुख अभियान द्रमुक सरकार द्वारा अपने चुनावी घोषणा पत्र में किए गए वादे के अनुसार नीट परीक्षा को समाप्त करने में विफलता थी, लेकिन परिणाम बताते हैं कि इसका लोगों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है।

7 मई को सत्ता संभालने के बाद से पिछले पांच महीनों में द्रमुक सरकार अपने चुनावी वादों को एक-एक करके पूरा कर रही है और यह 2021 के विधानसभा चुनावों के लगभग 200 वादों को पूरा कर सकती है। यह ग्रामीण स्थानीय निकाय चुनावों के लिए द्रमुक के अभियान का एक प्रमुख मुद्दा था।

मदुरै स्थित एक थिंक टैंक, सामाजिक-आर्थिक विकास फाउंडेशन के निदेशक, आर. पद्मनाभन ने आईएएनएस से कहा, अन्नाद्रमुक को दोबारा रणनीति बनानी होगी। शीर्ष नेताओं, ओपीएस और ईपीएस के बीच अलगाव के कारण पार्टी के प्रदर्शन में निराशाजनकरहा है। कार्यकर्ताओं ने जमीनी ताकत खो दी है, लेकिन नेताओं ने चुनाव के दौरान इसे गंभीरता से नहीं लिया और यह उन्हें महंगा पड़ा है।

--आईएएनएस

एचके/आरजेएस