गुरुग्राम में भारी बारिश, जलभराव से जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त

गुरुग्राम, 19 जुलाई (आईएएनएस)। गुरुग्राम के कुछ हिस्सों में सोमवार सुबह भारी बारिश के बाद जलभराव हो गया। वाहनों और पैदल चलने वालों की आवाजाही दोनों बाधित हो गई और यात्रियों को मुश्किल समय का सामना करना पड़ा।
 | 
गुरुग्राम में भारी बारिश, जलभराव से जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त गुरुग्राम, 19 जुलाई (आईएएनएस)। गुरुग्राम के कुछ हिस्सों में सोमवार सुबह भारी बारिश के बाद जलभराव हो गया। वाहनों और पैदल चलने वालों की आवाजाही दोनों बाधित हो गई और यात्रियों को मुश्किल समय का सामना करना पड़ा।

मौसम विभाग के मुताबिक, गुरुग्राम में आसमान में आमतौर पर बादल छाए रहेंगे। अगले 2-3 घंटों में शहर में एक या दो बार बारिश हो सकती है।

Bansal Saree

वहीं सुबह भीड़भाड़ वाले समय में यातायात प्रभावित हुआ और पुलिस को वाहनों को चलाने के लिए संघर्ष करना पड़ा। ट्रैफिक चालू रखने के लिए जद्दोजहद करते हुए पुलिसकर्मी घुटने भर पानी में खड़े नजर आए।

साथ ही पुराने गुरुग्राम में शहर के बस स्टैंड समेत शहर की कई सड़कों पर 3-4 फीट पानी जमा हो गया।

Devi Maa Dental

सोमवार दोपहर करीब 2.30 बजे हल्की बारिश शुरू हुई, लेकिन दोपहर 3.30 बजे तक इसने रफ्तार पकड़ ली और सुबह से नौ बजे तक तेज बारिश में बदल गई।

जलभराव के कारण दिल्ली-जयपुर-मुंबई राजमार्ग पर यातायात बुरी तरह प्रभावित हुआ।

हीरो होंडा चौक, बसई रोड, मेदांता अंडरपास, नाहरपुर, गैलेरिया मार्केट, सिग्नेचर टॉवर, हुडा सिटी सेंटर, कन्हाई चौक, इफको चौक, कोर्ट रोड, वजीराबाद चौक, सेक्टर 4-7 चौक, सेक्टर-14, सेक्टर 9 चौक, हिमगिरी चौक, हनुमान चौक, बिलासपुर चौक, फाजिलपुर चौक, वाटिका चौक, सुभाष चौक, बघतावर चौक, अतुल कटारिया चौक, महावीर चौक, डूंडाहेड़ा, ज्वाला मिल और शीतला माता मंदिर सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्र है और लगभग 65 प्रतिशत शहर औसतन 2.5 फीट पानी में डूबे हुए है।

ट्रैफिक पुलिस ने गंभीर रूप से प्रभावित क्षेत्रों के बारे में ट्विटर के माध्यम से ऑनलाइन अलर्ट जारी किया और जाम को साफ करने के लिए कर्मचारियों को तैनात किए।

ट्रैफिक पुलिस ने ट्वीट किया, ट्रैफिक अलर्ट, सिग्नेचर चौक पर जलजमाव की सूचना मिली है। हमारे ट्रैफिक अधिकारी ट्रैफिक प्रवाह को सुविधाजनक बनाने के लिए मौके पर हैं। यात्रियों से अनुरोध है कि वे अपनी यात्रा की योजना सोचसमझ कर और सुविधा को देखते हुए बनाएं।

एक वरिष्ठ यातायात पुलिसकर्मी ने कहा कि पुलिस पहले से ही सतर्क थी, जब बादली छा रही थी। ट्रैफिक पुलिस ऐसी कठोर परिस्थितियों में खुले में खड़ी रहती है और ट्रैफिक मूवमेंट को साफ करने की पूरी कोशिश करती है। लेकिन, बारिश के दौरान चीजें मुश्किल होती हैं। सड़कों पर पानी अधिक होने के कारण वाहन धीरे-धीरे चलते हैं।

गुरुग्राम पुलिस के प्रवक्ता सुभाष बोकेन ने कहा, हमने यातायात को सुचारू रूप से चलाने के लिए शहर के प्रमुख जंक्शनों पर पहले ही यातायात कर्मियों को तैनात कर दिया है।

कई निवासियों ने अपने अनुभव साझा करने के लिए ट्विटर का सहारा लिया और जलभराव और ट्रैफिक जाम की तस्वीरें पोस्ट कीं।

ऑफिस जाने वालों को भी ट्रैफिक जाम के कारण काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

एक निवासी अमन धीर ने आईएएनएस को बताया, हमेशा की तरह स्थानीय अधिकारियों के पास जलभराव से निपटने का कोई समाधान नहीं है। जलभराव को रोकने के लिए धन मिलने के बावजूद हर मानसून में सड़कें डूब जाती हैं। गुरुग्राम में कई एजेंसियों के पास जलभराव से निपटने का कोई समाधान नहीं है।

--आईएएनएस

एमएसबी/आरजेएस