गुरुग्राम: अतुल कटारिया चौक फ्लाईओवर के काम में लाई गई तेजी

गुरुग्राम, 14 सितम्बर (आईएएनएस)। गुरुग्राम के अतुल कटारिया चौक पर निमार्णाधीन फ्लाईओवर और अंडरपास का काम तय समय पर पूरा करने के लिए पुरानी दिल्ली रोड पर कापसहेड़ा बॉर्डर को दोनों तरफ से जोड़ने वाली सड़क को चार महीने के लिए बंद कर दिया जाएगा।
 | 
गुरुग्राम: अतुल कटारिया चौक फ्लाईओवर के काम में लाई गई तेजी गुरुग्राम, 14 सितम्बर (आईएएनएस)। गुरुग्राम के अतुल कटारिया चौक पर निमार्णाधीन फ्लाईओवर और अंडरपास का काम तय समय पर पूरा करने के लिए पुरानी दिल्ली रोड पर कापसहेड़ा बॉर्डर को दोनों तरफ से जोड़ने वाली सड़क को चार महीने के लिए बंद कर दिया जाएगा।

संबंधित प्राधिकरण द्वारा मांगे गए शेड्यूल को पूरा करने के लिए चार महीनों के लिए सड़क को बंद करने की योजना तैयार की गई है।

अतुल कटारिया चौक से दिल्ली के कापसहेड़ा की ओर जाने वाले वाहन पालम विहार होते हुए एमडीआई चौक या शीतला माता मंदिर से होकर गुजर सकते हैं। दिल्ली से बस स्टैंड की ओर आने वाले वाहनों को इफको चौक से सुखराली गांव होते हुए एमडीआई चौक की ओर मोड़ दिया जाएगा। ट्रैफिक पुलिस आठ से दस दिनों के अंदर इस रास्ते को बंद कर देगी।

Bansal Saree

एमडीआई चौक से शीतला माता मंदिर की ओर 650 मीटर के अंडरपास के साथ अतुल कटारिया चौक पर 750 मीटर लंबा फ्लाईओवर बनाया जा रहा है। पूरी परियोजना 47 करोड़ रुपये की है और समय सीमा डेढ़ साल थी, जो पूरा होने के करीब है।

अधिकारियों के मुताबिक देरी के पीछे बिजली लाइन, वन विभाग की एनओसी और पानी की नालियों को शिफ्ट करना बताया जा रहा है। अब चार महीने में निर्माण पूरा कर लिया जाएगा।

अतुल कटारिया चौक दिल्ली को पुराने शहर से जोड़ने वाला एक प्रमुख जंक्शन है। इस मार्ग से उद्योग विहार व शीतला कॉलोनी से सेक्टर-14 व राजीव नगर जाने वाले हजारों वाहन प्रतिदिन बस स्टैंड की ओर जाते हैं।

गुरुग्राम के ट्रेफिक पुलिस के उपायुक्त रविंदर तोमर ने कहा, अतुल कटारिया चौक पर निर्माण कार्य कर रही एजेंसी से पत्र मिलने के बाद इस सड़क को बंद किया जा रहा है। कंपनी को इस बिंदु पर जल्द से जल्द निर्माण पूरा करने के लिए कहा गया है।

Devi Maa Dental

गुरुग्राम के भवन एवं सड़क निर्माण विभाग के एक अधिकारी ने कहा, पानी के नाले को शिफ्ट करने, फ्लाईओवर निर्माण के लिए बिजली केबल लाइन को हटाने में समय लगा है। इस काम में देरी के चलते परियोजना में देरी हुई। इसे चार महीने के भीतर पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

--आईएएनएस

एचके/आरजेएस