कर्नाटक को बड़ी राहत, निपाह सैंपल की रिपोर्ट आई निगेटिव

दक्षिण कन्नड़ (कर्नाटक), 15 सितम्बर (आईएएनएस)। कोरोना के बीच निपाह वायरस ने कई राज्यों की चिता बढ़ा दी है। इस बीच कर्नाटक के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने राहत की सांस ली है क्योंकि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) को भेजे गए निपाह वायरस के संदिग्ध नमूने की जांच निगेटिव आई है।
 | 
कर्नाटक को बड़ी राहत, निपाह सैंपल की रिपोर्ट आई निगेटिव दक्षिण कन्नड़ (कर्नाटक), 15 सितम्बर (आईएएनएस)। कोरोना के बीच निपाह वायरस ने कई राज्यों की चिता बढ़ा दी है। इस बीच कर्नाटक के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने राहत की सांस ली है क्योंकि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) को भेजे गए निपाह वायरस के संदिग्ध नमूने की जांच निगेटिव आई है।

दक्षिण कन्नड़ जिले के जिला स्वास्थ्य अधिकारी (डीएचओ) डॉ किशोर कुमार ने बुधवार को कहा कि, संदिग्ध निपाह मामले की रिपोर्ट आ गई है और युवक का टेस्ट निगेटिव आया है। उन्होंने जनता से अपील की कि वे घबराएं नहीं क्योंकि जिला प्रशासन ने इस संबंध में सभी सावधानी बरत रही है।

Bansal Saree

केरल के साथ कर्नाटक के सीमावर्ती दक्षिण कन्नड़, उडुपी और कारवार जिलों में हाई अलर्ट जारी किया गया था, आरटी-पीसीआर और निपाह किट निर्माण इकाई में काम करने वाले कारवार के एक व्यक्ति के नमूने के बाद, जिसे एनआईवी, पुणे में टेस्ट के लिए भेजा गया था।

निपाह वायरस से संक्रमित होने के शक में व्यक्ति ने शनिवार को मणिपाल के अस्पताल से संपर्क किया था। उन्हें मेंगलुरु के सरकारी वेनलॉक जिला अस्पताल में आइसोलेट वार्ड में रखा गया था। उनके परिवार के सदस्यों को भी आइसोलेट किया गया था।

हालांकि डॉक्टरों को निपाह के कोई लक्षण नहीं मिले, लेकिन मरीज ने कहा कि वह वायरस से प्रभावित हो रहा है। अधिकारी कोई रिस्क नहीं लेना चाहते थे और नमूना जांच के लिए भेजा गया था।

गोवा में बारिश में भीगने के बाद व्यक्ति को बुखार हो गया था। उसे सिरदर्द और तेज दिल की धड़कन महसूस किया।

Devi Maa Dental

केरल के सभी यात्रियों के लिए थर्मल स्कैनिंग अनिवार्य की जा रही है, ताकि आपातकालीन उद्देश्यों से राज्य में प्रवेश करने वालों की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके क्योंकि केरल से लोगों की आवाजाही के लिए एंट्री बंद है। सीमाओं पर कड़ी चौकसी बरती जा रही है। अस्पतालों और सभी डॉक्टरों को सूचित किया जाता है कि वे निपाह के लक्षणों वाले किसी भी व्यक्ति के सामने आने पर रिपोर्ट करें।

--आईएएनएस

एचके/आरजेएस