तृणमूल ने बंगाल में बड़े निवेश के लिए टाटा का स्वागत किया

कोलकाता, 19 जुलाई (आईएएनएस)। सिंगूर से अपनी नियोजित (प्लान की हुई) कार फैक्ट्री को स्थानांतरित करने के लिए मजबूर करने के एक दशक से अधिक समय बाद, पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस सरकार ने राज्य में बड़े निवेश के लिए टाटा का स्वागत किया है।
 | 
तृणमूल ने बंगाल में बड़े निवेश के लिए टाटा का स्वागत किया कोलकाता, 19 जुलाई (आईएएनएस)। सिंगूर से अपनी नियोजित (प्लान की हुई) कार फैक्ट्री को स्थानांतरित करने के लिए मजबूर करने के एक दशक से अधिक समय बाद, पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस सरकार ने राज्य में बड़े निवेश के लिए टाटा का स्वागत किया है।

हुगली जिले के सिंगूर में तृणमूल के भूमि अधिग्रहण विरोधी आंदोलन ने टाटा को अपनी नियोजित नैनो कार फैक्ट्री को गुजरात स्थानांतरित करने के लिए मजबूर किया था।

Bansal Saree

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनकी पार्टी सिंगूर और नंदीग्राम भूमि अधिग्रहण विरोधी आंदोलन के बल पर सत्ता में आई, जिसने ग्रामीण गरीबों, वाम मोर्चे के पारंपरिक समर्थकों के साथ तालमेल बिठाया।

लेकिन इस साल तीसरी बार सत्ता में लौटने के बाद, बनर्जी और उनकी पार्टी ने विनिर्माण क्षेत्र में बड़े निवेश को प्राथमिकता दी है।

Devi Maa Dental

उद्योग मंत्री पार्थ चटर्जी ने तृणमूल सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता के रूप में रोजगार सृजन को रेखांकित करते हुए सोमवार को कहा कि पश्चिम बंगाल में बड़ा निवेश करने वाली कंपनियों को प्रोत्साहन प्रदान किया जाएगा, लेकिन प्रोत्साहन की प्रकृति और सीमा रोजगार पैदा करने की उनकी क्षमता पर निर्भर करेगी।

उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी सरकार चाहती है कि पश्चिम बंगाल में किसी भी प्रमुख औद्योगिक घराने द्वारा कम से कम दो बड़ी विनिर्माण इकाइयां जल्द से जल्द स्थापित की जाएं।

चटर्जी ने कहा, टाटा के साथ हमारी कभी कोई दुश्मनी नहीं थी, न ही हमने उनके खिलाफ लड़ाई लड़ी। वे इस देश में और विदेशों में भी सबसे सम्मानित और सबसे बड़े व्यापारिक घरानों में से एक हैं। आप टाटा को दोष नहीं दे सकते (सिंगूर उपद्रव के लिए)।

सरकारी अंदरूनी सूत्रों ने कहा कि टाटा और कुछ अन्य समूहों के साथ बातचीत चल रही है, लेकिन यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि किस तरह की परियोजनाओं में निवेश आकर्षित होने की संभावना है।

इस वार्ता से परिचित एक अंदरूनी सूत्र ने कहा, ऑटोमोबाइल, विशेष रूप से नई पीढ़ी के इलेक्ट्रिक वाहन, पश्चिम बंगाल में निर्मित किए जा सकते हैं। हुगली जिला, जहां बिड़ला ने एंबेसडर कारों का उत्पादन किया, स्थानीय कुशल जनशक्ति की उपलब्धता के कारण एक प्राकृतिक स्थल है। सिंगूर भी हुगली में है।

उन्होंने कहा कि बंगाल आईटी और आईटीईएस जैसे नई पीढ़ी के ज्ञान आधारित उद्योगों को आकर्षित करने का भी इच्छुक है।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम