अब महज लड्डू से नहीं होगी उत्तर प्रदेश के संडीला की पहचान, जल्द बदलेगी शहर की तस्वीर

लखनऊ, 15 जुलाई (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से लगभग 110 किलोमीटर दूर हरदोई वर्षों से एक गुमनाम और साधारण सा जिला बना हुआ है।
 | 
अब महज लड्डू से नहीं होगी उत्तर प्रदेश के संडीला की पहचान, जल्द बदलेगी शहर की तस्वीर लखनऊ, 15 जुलाई (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से लगभग 110 किलोमीटर दूर हरदोई वर्षों से एक गुमनाम और साधारण सा जिला बना हुआ है।

इसकी प्रसिद्धि का एकमात्र कारण इसका एक छोटा सा शहर संडीला रहा है, जो अपने लड्डू के लिए प्रसिद्ध है और लखनऊ से लगभग 60 किलोमीटर दूर है।

Bansal Saree

हालांकि, संडीला अब वेब्ले एंड स्कॉट, पेप्सी, ब्रिटिश पेंट्स, बर्जर पेंट्स और हल्दीराम के यहां अपने कारखाने स्थापित करने के साथ एक प्रमुख व्यापारिक केंद्र बनने की राह पर है।

सरकार के प्रवक्ता के अनुसार, यूपी सरकार को संडीला में विभिन्न उद्योग स्थापित करने के लिए 6,000 करोड़ रुपये से अधिक के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं, जिनमें से 5,000 करोड़ रुपये की परियोजनाएं पहले ही धरातल पर उतर चुकी हैं।

Devi Maa Dental

वेब्ले एंड स्कॉट ने 100 करोड़ रुपये की लागत से अपना पहला विनिर्माण संयंत्र स्थापित किया है।

इसी तरह बर्जर पेंट्स लिमिटेड करीब 850 करोड़ रुपये की लागत से 35 एकड़ जमीन पर अपना कारखाना लगा रही है। बर्जर पेंट्स की इस फैक्ट्री में लगभग 2,500 लोगों को रोजगार मिलेगा, जो अप्रैल 2022 तक विभिन्न प्रकार के पेंट का उत्पादन शुरू कर देगी।

इंग्लैंड की जानी-मानी कंपनी ब्रिटिश पेंट्स लिमिटेड ने भी 150 करोड़ रुपये की लागत से 10 एकड़ से अधिक की यूपीएसआईडीए भूमि पर अपनी इकाई का निर्माण शुरू कर दिया है। अगले साल उत्पादन शुरू करने वाली इस फैक्ट्री में कुल 600 लोगों को रोजगार मिलेगा।

औद्योगिक विकास विभाग के अधिकारियों के अनुसार, अन्य प्रमुख निवेशक जो संडीला में अपने संयंत्र स्थापित कर रहे हैं, उनमें ग्रीन प्लाई कंपनी, ऑस्टिन प्लाइवुड कंपनी, गैंग इंडस्ट्रीज लिमिटेड, वरुण बेवरेजेज लिमिटेड, आईटीसी लिमिटेड, हिंदुस्तान फूड लिमिटेड, हल्दीराम और फार्मास्युटिकल फर्म स्वरूप केमिकल्स शामिल हैं।

ग्रीन प्लाई कंपनी 600 करोड़ रुपये की लागत से 35 एकड़ भूमि पर अपनी इकाई स्थापित कर रही है और जुलाई, 2022 में उत्पादन शुरू होने की उम्मीद है।

इसी तरह ऑस्टिन प्लाइवुड कंपनी 50 करोड़ रुपये की लागत से अपना कारखाना स्थापित कर रही है और यह शुरू होने पर 500 लोगों को रोजगार देगी।

गैंग इंडस्ट्रीज लिमिटेड 250 करोड़ रुपये की लागत से 25 एकड़ भूमि पर अपना डिस्टिलरी प्लांट स्थापित कर रही है और एक बार इसका काम पूरा होने पर यह 700 लोगों को रोजगार प्रदान करेगी।

वहीं पेप्सी के सहयोग से वरुण बेवरेज लिमिटेड, कोल्ड ड्रिंक, जूस आदि के उत्पादन के लिए 700 करोड़ रुपये के निवेश से 100 एकड़ भूमि पर संडीला में एक कारखाना स्थापित कर रही है। इस फैक्ट्री में करीब 2000 लोगों को रोजगार मिलेगा।

इसके अलावा, आईटीसी लिमिटेड 800 करोड़ रुपये के निवेश से 60 एकड़ में आटा, जूस, चिप्स आदि का उत्पादन करने के लिए अपना कारखाना स्थापित कर रही है और यह कंपनी की यह यूनिट 1,000 लोगों को रोजगार देगी।

हल्दीराम भी करीब 50 करोड़ रुपये की लागत से पांच एकड़ में अपनी इकाई स्थापित कर रहा है और यह 250 लोगों को रोजगार के अवसर प्रदान करेगा।

हिंदुस्तान फूड लिमिटेड भी 100 करोड़ रुपये की लागत से संडीला में अपना कारखाना स्थापित कर रही है।

इसके अलावा स्वरूप केमिकल्स ने अपनी एक फार्मा यूनिट के लिए जमीन का अधिग्रहण कर लिया गया है और जल्द ही फैक्ट्री का निर्माण शुरू होने की उम्मीद है।

संडीला में इन कारखानों की स्थापना के साथ, शहर जल्द ही एक प्रमुख औद्योगिक शहर के रूप में उभरेगा और सिर्फ एक लड्डू की पहचान से कहीं आगे निकल जाएगा।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम