प्रधानमंत्री गुरुवार को रक्षा मंत्रालय के नए कार्यालय का करेंगे उद्घाटन

नई दिल्ली, 14 सितंबर (आईएएनएस)। रक्षा मंत्रालय का कार्यालय, जिसमें करीब 7,000 कर्मचारी और कई अन्य संगठन हैं, अफ्रीका एवेन्यू और कस्तूरबा गांधी मार्ग पर दो नए परिसरों में स्थानांतरित होने के लिए तैयार है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को नए कार्यालय परिसर का उद्घाटन करेंगे।
 | 
प्रधानमंत्री गुरुवार को रक्षा मंत्रालय के नए कार्यालय का करेंगे उद्घाटन नई दिल्ली, 14 सितंबर (आईएएनएस)। रक्षा मंत्रालय का कार्यालय, जिसमें करीब 7,000 कर्मचारी और कई अन्य संगठन हैं, अफ्रीका एवेन्यू और कस्तूरबा गांधी मार्ग पर दो नए परिसरों में स्थानांतरित होने के लिए तैयार है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को नए कार्यालय परिसर का उद्घाटन करेंगे।

साउथ ब्लॉक के पास डलहौजी रोड पर मौजूदा रक्षा मंत्रालय को स्थानांतरित करने के बाद खाली हुई जगह को सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना के हिस्से के रूप में प्रधानमंत्री के नए आवास और कार्यालय के लिए पुनर्विकास किया जाएगा।

रक्षा मंत्रालय के कार्यालय को स्थानांतरित करने से 50 एकड़ भूमि खाली होने की उम्मीद है, जिसे सेंट्रल विस्टा परियोजना के लिए एक कार्यकारी एन्क्लेव के रूप में विकसित किया जाएगा।

Bansal Saree

अफ्रीका एवेन्यू पर कार्यालय परिसर एक सात मंजिला स्थान है, जिसमें केवल रक्षा मंत्रालय के कार्यालय होंगे, जबकि कस्तूरबा गांधी मार्ग पर आठ मंजिला इमारत का उपयोग वर्तमान में परिवहन भवन और श्रम शक्ति भवन में स्थित कार्यालयों को अस्थायी रूप से समायोजित करने के लिए किया जाएगा। उनके नए कार्यालय केंद्रीय सचिवालय परिसर में बनाए जा रहे हैं।

अफ्रीका एवेन्यू में परिसर चार ब्लॉकों में फैला हुआ है और यहां 5.08 लाख वर्ग फुट जगह है, जबकि केजी मार्ग में तीन ब्लॉक और 4.52 लाख वर्ग फुट का कार्यालय क्षेत्र है। दोनों परिसरों में कुल मिलाकर 1,500 कारों के लिए पार्किं ग की जगह है।

आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय ने रक्षा मंत्रालय द्वारा प्रदान की गई 775 करोड़ रुपये की लागत से सेंट्रल विस्टा परियोजना के हिस्से के रूप में नए कार्यालय परिसरों का निर्माण किया है।

Devi Maa Dental

नए भवन में कैंटीन और बैंक जैसी आधुनिक सुविधाएं, कनेक्टिविटी और कल्याण सुविधाएं भी रहेंगी।

सेंट्रल विस्टा योजना के तहत प्रधानमंत्री आवास को मौजूदा साउथ ब्लॉक परिसर के पीछे शिफ्ट किया जाएगा।

योजना में नार्थ ब्लॉक के पीछे उपराष्ट्रपति के नए आवास का स्थानांतरण और शास्त्री भवन, निर्माण भवन, उद्योग भवन, कृषि भवन और वायु भवन सहित सरकारी कार्यालयों को समायोजित करने के लिए 10 नए बिल्डिंग ब्लॉक भी शामिल हैं।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम