पंजाब के साथ साथ कई राज्यों में कांग्रेस में भारी उथल-पुथल

नई दिल्ली, 22 जुलाई (आईएएनएस)। देश के कई राज्यों में कांग्रेस में ऐसी उथल पुथल जारी है जो थमने का नाम नहीं ले रही है। इस बीच, कर्नाटक में कांग्रेस के लिए राहुल गांधी के साथ पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और प्रदेश अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार का आना यह एक अच्छा संकेत था।
 | 
पंजाब के साथ साथ कई राज्यों में कांग्रेस में भारी उथल-पुथल नई दिल्ली, 22 जुलाई (आईएएनएस)। देश के कई राज्यों में कांग्रेस में ऐसी उथल पुथल जारी है जो थमने का नाम नहीं ले रही है। इस बीच, कर्नाटक में कांग्रेस के लिए राहुल गांधी के साथ पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और प्रदेश अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार का आना यह एक अच्छा संकेत था।

सिद्धारमैया ने पार्टी में किसी भी दरार से इनकार किया और कहा कि वे दोनों चुनाव जीतने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। शिवकुमार अधिक साफ दिखे और उन्होंने कहा कि पार्टी सामूहिक नेतृत्व के लिए जाएगी और मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के लिए दबाव नहीं डालेगी। सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी ने भी सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए कहा कि चुनाव के बाद इस पर फैसला किया जाएगा।

Bansal Saree

जबकि सिद्धारमैया का समर्थन करने वाले विधायक और नेता सीएम के चेहरे की घोषणा के लिए दबाव बना रहे हैं और कह रहे हैं कि वह स्वाभाविक पसंद हैं। हालांकि एआईसीसी के नजरिए से सब कुछ ठीक है, लेकिन तस्वीर उतनी गुलाबी नहीं है, जितनी दिखती है। राजस्थान में सचिन पायलट के साथ अशोक गहलोत और मध्य प्रदेश में कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ खींचतान में इसकी झलक देखने को मिल चुकी है।

राजस्थान में, पायलट ने बुधवार को राज्य में कैबिनेट विस्तार में देरी पर नाखुशी व्यक्त की और कहा कि कांग्रेस सरकार इस वजह से खुद को दोहरा नहीं सकती है। बाद में उन्होंने अपने बयान में सुधार करते हुए कहा कि अगले चुनाव में कांग्रेस की सरकार को वापस लाने की जिम्मेदारी पार्टी की है। हालांकि परेशानी को भांपते हुए गहलोत को दिल्ली बुलाया गया है।

Devi Maa Dental

कांग्रेस को राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भी पंजाब जैसी स्थिति का सामना करना पड़ रहा है, जहां सचिन पायलट और टी.एस. सिंह देव की मुख्यमंत्री बनने की महत्वाकांक्षा है।

पायलट ने पिछले साल ही पार्टी में वापस आने के लिए बगावत का झंडा फहराया था। दूसरी ओर, देव सावधान हो गए हैं। उनका कहना है कि सोनिया जी और राहुल गांधी जी फैसला करेंगे। वह हाल ही में निजी दौरे पर दिल्ली में थे, जिससे छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे थे।

अपनी दिल्ली यात्रा के दौरान बघेल ने कहा कि वह नेतृत्व के निर्णय का पालन करेंगे और सिंह देव के साथ उसी विमान में रायपुर लौट आए।

2019 की चुनावी हार के बाद और फिर कर्नाटक में गठबंधन सरकार के पतन और मध्य प्रदेश में अपनी सरकार के पतन के बाद, ज्योतिरादित्य सिंधिया के विद्रोह के बाद, कांग्रेस आलाकमान खुद को कमजोर और अनिर्णायक के रूप में सामने ला रहा है।

ऐसा लग रहा है कि अशोक गहलोत और अमरिंदर सिंह जैसे मुख्यमंत्रियों पर लगाम लगाने में आलाकमान सक्षम नहीं है क्योंकि पायलट के साथ युद्धविराम का वर्ष गहलोत ने पायलट शिविर को समायोजित करने के लिए मंत्रालय का विस्तार नहीं किया और वहीं सिद्धू की नियुक्ति के बाद, अमरिंदर सिंह इस बात पर अड़े हैं कि सिद्धू माफी मांगें, जिसे वह खारिज कर रहे हैं।

सिंधिया और तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ के बीच विवाद के परिणामस्वरूप मध्य प्रदेश सरकार गिर गई। सिंधिया को लगा कि कमलनाथ उन्हें दरकिनार कर रहे हैं। पायलट की राजस्थान में भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से यही दुश्मनी थी।

--आईएएनएस

एचके/आरजेएस