दुनिया में चीन के प्रति लगातार बढ़ रही नकारात्मक धारणा

नई दिल्ली, 14 जनवरी (आईएएनएस)। चीनी सरकार के अधिकारों के रिकॉर्ड और उसकी वुल्फ वॉरियर कूटनीति के परिणामस्वरूप कुछ देशों में सरकार की नकारात्मक सार्वजनिक धारणाएं (निगेटिव पब्लिक पर्सेप्शन) बढ़ी हैं। ह्यूमन राइट्स वॉच (एचआरडब्ल्यू) ने अपनी वल्र्ड रिपोर्ट 2022 में यह दावा किया है।
 | 
दुनिया में चीन के प्रति लगातार बढ़ रही नकारात्मक धारणा नई दिल्ली, 14 जनवरी (आईएएनएस)। चीनी सरकार के अधिकारों के रिकॉर्ड और उसकी वुल्फ वॉरियर कूटनीति के परिणामस्वरूप कुछ देशों में सरकार की नकारात्मक सार्वजनिक धारणाएं (निगेटिव पब्लिक पर्सेप्शन) बढ़ी हैं। ह्यूमन राइट्स वॉच (एचआरडब्ल्यू) ने अपनी वल्र्ड रिपोर्ट 2022 में यह दावा किया है।
एडडाटा के नए शोध ने विकासशील देशों द्वारा चीनी अधिकारियों को बकाया छिपे हुए ऋण के तौर पर 385 अरब डॉलर का खुलासा किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कुछ विदेशी सरकारों ने देश और विदेश में अपने अधिकारों के रिकॉर्ड में सुधार के लिए चीनी सरकार पर दबाव डालने के लिए और अधिक ठोस उपाय किए, लेकिन वे बीजिंग के दुरुपयोग के दायरे और पैमाने को प्रभावी ढंग से चुनौती देने के लिए अपर्याप्त रहे।

रिपोर्ट के अनुसार, बीजिंग और हांगकांग के अधिकारियों ने हांगकांग में अधिकारों को वापस लेने के लिए आक्रामक तरीके से कदम उठाए।

लोकतंत्र समर्थक एक्टिविस्ट को मनमाने ढंग से गिरफ्तार किया गया और हिरासत में लिया गया। जनवरी में, अधिकारियों ने जुलाई 2020 के जनमत सर्वेक्षण में शामिल होने के लिए 53 राजनेताओं को कथित तोड़फोड़ के लिए गिरफ्तार किया।

Bansal Saree

चीनी अधिकारी शिनजियांग में उइगर और अन्य तुर्क मुसलमानों का शोषण कर रहे हैं और मानवता के खिलाफ अपराधों में लिप्त हैं।

किए गए दुर्व्यवहारों में बड़े पैमाने पर मनमाने ढंग से हिरासत में लेना, यातना, जबरन गायब कर देना, सामूहिक निगरानी, सांस्कृतिक और धार्मिक उत्पीड़न, परिवारों को अलग करना, चीन में जबरन वापसी, जबरन श्रम और यौन हिंसा का सात ही प्रजनन अधिकारों के उल्लंघन शामिल हैं।

हालांकि अधिकारियों ने सूचना पर कड़ा नियंत्रण बनाए रखा हुआ है, मगर 2021 में झिंजियांग से कुछ खबरें जरूर लीक हो गई थी।

एचआरडब्ल्यू ने कहा कि कुछ उइगर जो शिनजियांग के अपमानजनक हिंसक आतंकवाद के खिलाफ स्ट्राइक हार्ड कैंपेन में गायब हो गए थे, उनके जेल जाने की पुष्टि की गई थी, जिसमें प्रमुख एकेडमिक राहिल दाउत भी शामिल थे, हालांकि उनका कथित अपराध, सजा की अवधि और कारावास का स्थान स्पष्ट नहीं है।

Devi Maa

उइगर ह्यूमन राइट्स प्रोजेक्ट की एक रिपोर्ट में दिखाया गया है कि शिनजियांग सरकार ने 21 जेल में बंद उइगरों की 8.48 करोड़ डॉलर की संपत्ति जब्त करके और ऑनलाइन संपत्ति की नीलामी करके उइगरों को बेदखल कर दिया।

पड़ोसी सरकारें बीजिंग के उत्पीड़न पर आवाज उठाने के बजाय उन्हें बढ़ावा देती रहीं। पिछले सितंबर में कजाख अधिकारियों ने एक रूसी-अमेरिकी शोधकर्ता, येवगेनी बुनिन को शिनजियांग के उत्पीड़न का दस्तावेजीकरण करने के उनके काम को रोकने के स्पष्ट प्रयासों में देश से प्रतिबंधित कर दिया था।

साथ ही उसी महीने, तुर्की ने उइगर निर्वासित संगठन उइगर वल्र्ड कांग्रेस के अध्यक्ष डोलकुन ईसा को प्रवेश से वंचित कर दिया था।

अफगानिस्तान से मोरक्को तक विदेश में उइगरों ने चीन को लेकर निर्वासन की आशंका जताई थी, क्योंकि चीनी सरकार ने कथित आतंकवाद के लिए उनकी वापसी की मांग जारी रखी थी। यह एक शब्द है, जिसे चीनी कानून के तहत अस्पष्ट रूप से परिभाषित किया गया है, जिसमें शांतिपूर्ण अभिव्यक्ति और वकालत शामिल है।

पिछले मार्च में, चीनी उपभोक्ताओं ने झिंजियांग से जबरन श्रम की रिपोर्ट के कारण कपास की खरीद बंद करने की कसम खाने के लिए अंतरराष्ट्रीय कपड़ों के ब्रांडों का बहिष्कार किया।

जुलाई में, अमेरिकी फोटोग्राफी कंपनी कोडक ने झिंजियांग को डायस्टोपियन कहने वाले एक फोटोग्राफर के पोस्ट को इंस्टाग्राम से हटा दिया। अमेरिकी सीमा शुल्क और सीमा सुरक्षा एजेंसी ने झिंजियांग से संबंधित कई आयात प्रतिबंध जारी किए, जिसमें झिंजियांग से कपास और टमाटर शामिल हैं। शिनजियांग के आयात पर अन्य देशों द्वारा समान प्रतिबंध लगाने की मांग बढ़ रही है।

सरकार द्वारा कोविड-19 महामारी से निपटने के तरीके की आलोचना करने के लिए अधिकारियों ने लोगों को हिरासत में लेना या उन पर मुकदमा चलाना जारी रखा। जनवरी 2020 और जून 2021 के बीच, ट्विटर अकाउंट स्पीचफ्रीडमसीएन ने कोविड-19 से संबंधित भाषण के लिए कम से कम 663 गिरफ्तारियां दर्ज कीं। मार्च में, सेवानिवृत्त प्रोफेसर चेन झाओझी पर सोशल मीडिया पर पोस्ट करने के लिए भड़काऊ काम के आरोप में मुकदमा चलाया गया था। उन्होंने कहा था कि वुहान निमोनिया एक चीनी वायरस नहीं है, बल्कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का वायरस है।

अधिकारियों ने कई लोगों को उनके ऑनलाइन पोस्ट और सरकार की आलोचना करने वाले निजी चैट संदेशों के लिए परेशान किया, हिरासत में लिया या उन पर मुकदमा चलाया गया। उन पर अफवाह फैलाने और लोगों को भड़काने का आरोप लगाते हुए देश के नेताओं का अपमान करने के भी झूठे आरोप लगाए गए।

2021 वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट में पाया गया कि 58 चीनी यूजर्स को ट्विटर, फेसबुक और यूट्यूब पर उनके पोस्ट के लिए छह महीने से चार साल के बीच जेल की सजा दी गई थी, जो कि चीन में प्रतिबंधित प्लेटफॉर्म हैं।

एचआरडब्ल्यू ने आगे कहा कि ऐसे कोई भी भाषण या बयान जो गैर-देशभक्ति के समझे जाते हैं, उनके लिए लोगों को बड़ी संख्या में दंडित किया गया है। फरवरी में, भारतीय सैनिकों के साथ सीमा संघर्ष के संबंध में टिप्पणियों के लिए कम से कम सात लोगों को हिरासत में लिया गया था। मार्च में, सरकार ने एक प्रावधान पारित किया था, जिसमें कहा गया था कि नायकों और शहीदों को बदनाम करने के लिए तीन साल तक की जेल हो सकती है। एचआरडब्ल्यू ने कहा कि पूर्व पत्रकार किउ जिमिंग को संघर्ष में चीनी सैनिकों की वास्तविक मौत का आधिकारिक आंकड़ा अधिक होने का सुझाव देने के लिए आठ महीने की जेल की सजा सुनाई गई थी।

--आईएएनएस

एकेके/आरजेएस