जम्मू के बागों में अब कई प्रजाति के लीची के पौधे लहलहाएंगे

मुजफ्फरपुर, 25 नवंबर (आईएएनएस)। बिहार के मुजफ्फरपुर की शाही लीची और चायना लीची के अलावा अन्य प्रजातियों की लीची की मांग अब जम्मू में होने लगी है। हाल ही में जम्मू के मुख्य उद्यान अधिकारी कार्यालय द्वारा मुजफ्फरपुर राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र को पत्र भेजकर विभिन्न प्रजातियों के करीब 2000 लीची के पौधों की मांग की है। इस मांग के बाद केंद्र ने इसकी तैयारी भी प्रारंभ कर दी है।
 | 
जम्मू के बागों में अब कई प्रजाति के लीची के पौधे लहलहाएंगे मुजफ्फरपुर, 25 नवंबर (आईएएनएस)। बिहार के मुजफ्फरपुर की शाही लीची और चायना लीची के अलावा अन्य प्रजातियों की लीची की मांग अब जम्मू में होने लगी है। हाल ही में जम्मू के मुख्य उद्यान अधिकारी कार्यालय द्वारा मुजफ्फरपुर राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र को पत्र भेजकर विभिन्न प्रजातियों के करीब 2000 लीची के पौधों की मांग की है। इस मांग के बाद केंद्र ने इसकी तैयारी भी प्रारंभ कर दी है।

देश और विदेशों में चर्चित बिहार की शाही लीची के जीआई टैग मिलने के बाद इसकी मांग और बढ़ी है।

जम्मू सरकार ने पहले भी आम और लीची की खेती को प्रोत्साहित करने के लिए भागलपुर के सबौर में स्थित बिहार कृषि विश्वविद्यालय को पत्र भेजकर आम और लीची के कुछ पौधों की मांग की थी।

Bansal Saree

मुजफ्फरपुर स्थित राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र के निदेशक डॉ शेषधर पांडेय ने आईएएनएस को बताया कि जम्मू कश्मीर के कई इलाकों तथा पंजाब के कई इलाकों में पहले भी लीची की खेती होती है। यह कोई नई बात नहीं है।

उन्होंने बताया कि पहले वहां शाही और चायना प्रजाति की ही लीची लगे हैं अब अन्य प्रजातियों के पौधों की भी मांग आई है। उन्होंने बताया कि जम्मू के मुख्य उद्यान अधिकारी कार्यालय द्वारा बेदाना, शाही, रोज सेंटेड और चाइना लीची के पौधों की मांग की गई है। फिलहाल इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है।

उन्होंने कहा कि अभी ठंड के मौसम में लीची के पौधे वहां नहीं लग सकेंगे, इस कारण संभावना है कि अगले साल फरवरी महीने में मौसम अनुकूल होते ही यहां से लीची के पौधे भेज दिए जाएंगे।

उन्होंने यह भी बताया कि वहां इन पौधों को मदर नर्सरी के तौर पर विकसित किया जाएगा और उसके बाद फिर मांग के अनुसार उसे अन्य क्षेत्रों में भेजा जाएगा।

Devi Maa

केंद्र के मुताबिक भारत में पैदा होने वाली लीची का 40 से 45 फीसदी उत्पादन बिहार में ही होता है। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और पश्चिम बंगाल जैसे प्रदेशों में भी लीची की खेती होती है। अकेले मुजफ्फरपुर में 11 हजार हेक्टेयर में लीची के बाग हैं।

--आईएएनएस

एमएनपी/एएनएम