चिराग पासवान ने बिहार में भाजपा नेताओं पर हमले के लिए नीतीश सरकार को जिम्मेदार ठहराया

पटना, 22 जून (आईएएनएस)। लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के प्रमुख चिराग पासवान ने सशस्त्र बल में अल्पकालिक भर्ती के लिए केंद्र की अग्निपथ योजना के खिलाफ बिहार में हालिया आंदोलन के दौरान राज्य में भाजपा नेताओं पर हमलों के लिए नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली सरकार की बुधवार को आलोचना की।
 | 
चिराग पासवान ने बिहार में भाजपा नेताओं पर हमले के लिए नीतीश सरकार को जिम्मेदार ठहराया पटना, 22 जून (आईएएनएस)। लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के प्रमुख चिराग पासवान ने सशस्त्र बल में अल्पकालिक भर्ती के लिए केंद्र की अग्निपथ योजना के खिलाफ बिहार में हालिया आंदोलन के दौरान राज्य में भाजपा नेताओं पर हमलों के लिए नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली सरकार की बुधवार को आलोचना की।

हमलों के लिए राज्य सरकार को पूरी तरह से जिम्मेदार ठहराते हुए पासवान ने कहा, कानून और व्यवस्था पूरी तरह से राज्य का विषय है। जहां कहीं भी हिंसा होती है, वह एकमात्र राज्य सरकार की जिम्मेदारी होती है। नीतीश कुमार सरकार के ढुलमुल रवैये के कारण बिहार में तीन दिनों तक ट्रेनें जलाई जाती रहीं और भाजपा कार्यालयों में आग लगाई जाती रही, विभिन्न जिलों में भाजपा के कई नेताओं पर हमले किए गए।

krishna hospital

राज्य इकाई के प्रमुख संजय जायसवाल, डिप्टी सीएम रेणु देवी और विधायक विनय बिहारी, अरुणा देवी और सी.एन. सिंह पर 17 और 18 जून को अग्निपथ विरोधी आंदोलन के दौरान गुस्साई भीड़ ने हमला किया था। प्रदर्शनकारियों ने नवादा और मधेपुरा में भाजपा कार्यालयों में भी आग लगा दी थी।

पासवान ने कहा, हिंसा राज्य पुलिस और खुफिया एजेंसियों की पूर्ण विफलता का परिणाम थी जो स्थिति का आकलन करने में असमर्थ थे और निवारक उपाय करने में विफल रहे।

दूसरी ओर, पासवान ने सशस्त्र बलों में चार साल के कार्यकाल के बाद अग्निवीरों को सुरक्षा गार्ड की नौकरी देने जैसे बयान के लिए भाजपा नेताओं की भी आलोचना की।

chaitanya

पासवान ने कहा, जो युवा देश के लिए अपनी जान जोखिम में डालने का जज्बा रखते हैं, कुछ भाजपा नेता उन्हें भाजपा कार्यालयों में सुरक्षा गार्ड की नौकरी की पेशकश कर रहे हैं। ये युवा बाद में सुरक्षा गार्ड बनने के लिए सेना में शामिल होने की तैयारी नहीं कर रहे हैं। केंद्र युवाओं को गुमराह कर रहा है। मेरी अपील है कि केंद्र को युवाओं के सामने आने वाले मुद्दों का समाधान करना चाहिए।

--आईएएनएस

एसजीके