केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, राज्यों को निकटतम मंदिर में भक्तों के लिए गंगाजल उपलब्ध कराना चाहिए

नई दिल्ली, 16 जुलाई (आईएएनएस)। गृह मंत्रालय ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि कांवड़ यात्रा के लिए राज्य सरकारों को हरिद्वार से अपनी पसंद के शिव मंदिरों में गंगाजल लाने के लिए कांवड़ियों की आवाजाही की अनुमति नहीं देनी चाहिए।
 | 
केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, राज्यों को निकटतम मंदिर में भक्तों के लिए गंगाजल उपलब्ध कराना चाहिए नई दिल्ली, 16 जुलाई (आईएएनएस)। गृह मंत्रालय ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि कांवड़ यात्रा के लिए राज्य सरकारों को हरिद्वार से अपनी पसंद के शिव मंदिरों में गंगाजल लाने के लिए कांवड़ियों की आवाजाही की अनुमति नहीं देनी चाहिए।

14 जुलाई को शीर्ष अदालत द्वारा कांवड़ यात्रा की अनुमति देने के उत्तर प्रदेश सरकार के फैसले पर स्वत: संज्ञान लेने के बाद गृह मंत्रालय द्वारा हलफनामा दायर किया गया था।

Bansal Saree

हलफनामे में कहा गया है, जहां तक मौजूदा कार्रवाई, यानी कांवर यात्रा की विषय वस्तु का संबंध है, राज्य सरकारों को हरिद्वार से गंगाजल को अपनी पसंद के शिव मंदिरों में लाने के लिए कांवरियों की आवाजाही की अनुमति नहीं देनी चाहिए।

हलफनामे के अनुसार, हालांकि, सदियों पुराने रीति-रिवाजों और धार्मिक भावनाओं को देखते हुए, राज्य सरकारों को पवित्र गंगाजल को टैंकरों के माध्यम से उपलब्ध कराने के लिए एक प्रणाली विकसित करनी चाहिए जो कि एक चिन्हित / निर्दिष्ट स्थानों पर उपलब्ध होनी चाहिए , ताकि आस-पास के भक्त इस तरह से गंगाजल संग्रह कर सकें, और उनके निकटतम शिव मंदिरों पर अभिषेक कर सकें।

Devi Maa Dental

गृह मंत्रालय ने प्रस्तुत किया कि राज्यों को यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि भक्तों के बीच गंगाजल के वितरण का यह अभ्यास और ऐसे भक्तों द्वारा पास के शिव मंदिरों में किए जाने वाले अनुष्ठान अनिवार्य रूप से सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने, मास्क पहनने और कोविड के लिए आवश्यक सभी चरणों का पालन सुनिश्चित करने के साथ हो।

न्यायमूर्ति आर.एफ. नरीमन और न्यायमूर्ति बी.आर. गवई ने केंद्र, उत्तराखंड सरकार और योगी आदित्यनाथ सरकार को नोटिस जारी कर मामले की सुनवाई शुक्रवार को तय की थी।

--आईएएनएस

आरएचए/आरजेएस