कतर के विदेश मंत्री काबुल में, तालिबान नेतृत्व से की मुलाकात (लीड-1)

नई दिल्ली, 13 सितम्बर (आईएएनएस)। कतर के विदेश मंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुलरहमान अल-थानी ने काबुल पहुंचने पर तालिबान नेतृत्व दल और कार्यवाहक प्रधानमंत्री मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद सहित कैबिनेट के सदस्यों से मुलाकात की।
 | 
कतर के विदेश मंत्री काबुल में, तालिबान नेतृत्व से की मुलाकात (लीड-1) नई दिल्ली, 13 सितम्बर (आईएएनएस)। कतर के विदेश मंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुलरहमान अल-थानी ने काबुल पहुंचने पर तालिबान नेतृत्व दल और कार्यवाहक प्रधानमंत्री मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद सहित कैबिनेट के सदस्यों से मुलाकात की।

खामा न्यूज ने बताया कि अल-थानी, जो उप प्रधानमंत्री भी हैं, तालिबान के अफगानिस्तान में कब्जा जमाने के बाद से कई बार काबुल का दौरा कर चुके हैं, लेकिन तालिबान द्वारा अपनी कार्यवाहक सरकार की घोषणा के बाद यह उनकी पहली यात्रा है।

विदेश मंत्री और अखुंद ने रविवार को प्रेसिडेंशियल पैलेस (एआरजी) में मुलाकात की।

Bansal Saree

पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी की कुर्सी पर बैठे अखुंद सरकार के प्रमुख के रूप में अपनी नियुक्ति के बाद पहली बार दिखाई दिए।

तालिबान ने कहा कि दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय संबंधों और अफगानिस्तान को कतर की ओर से की जा रही मानवीय सहायता के बारे में बात की।

टोलो न्यूज ने तालिबान के एक प्रवक्ता सुहैल शाहीन के हवाले से कहा, बैठक द्विपक्षीय संबंधों, मानवीय सहायता, आर्थिक विकास और दुनिया के साथ बातचीत पर केंद्रित थी।

उन्होंने कहा, दोहा समझौता एक ऐतिहासिक उपलब्धि थी, सभी पक्षों को इसके कार्यान्वयन का पालन करना चाहिए।

शाहीन के अनुसार, अल-थानी ने भी द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने की अपनी इच्छा दोहराई।

इसके अलावा रविवार को कतर के विदेश मंत्री ने पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई और राष्ट्रीय सुलह के लिए उच्च परिषद के प्रमुख अब्दुल्ला अब्दुल्ला से उनके आवास पर मुलाकात की।

Devi Maa Dental

अब्दुल्ला और करजई दोनों ने बताया कि उन्होंने अल-थानी के साथ अपनी बैठक के दौरान अफगानिस्तान में नवीनतम घटनाओं और एक समावेशी सरकार के गठन के बारे में बात की।

दोहा में तालिबान के राजनीतिक कार्यालय की मेजबानी से लेकर काबुल अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को फिर से सक्रिय करने और अफगानिस्तान को मानवीय सहायता प्रदान करने के लिए तकनीकी दल भेजने तक, कतर को तालिबान के लिए महत्वपूर्ण देशों में से एक माना जाता है।

--आईएएनएस

आरएचए/आरजेएस