एलपीजी सिलेंडर की कीमतों के खिलाफ शिवकुमार ने अपनी रसोई में शूट किया वीडियो जारी किया

बेंगलुरु, 12 सितम्बर (आईएएनएस)। कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार ने अपनी रसोई से शूट किया गया एक वीडियो जारी किया है, जिसमें सरकार से एलपीजी गैस सिलेंडर की कीमत कम से कम 150 रुपये कम करने का आग्रह किया है। उन्होंने पूछा कि क्या सरकार चाहती है कि माता-पिता स्कूल बैग खरीद लें या सभी पैसे एलपीजी सिलेंडर पर खर्च करें।
 | 
एलपीजी सिलेंडर की कीमतों के खिलाफ शिवकुमार ने अपनी रसोई में शूट किया  वीडियो जारी किया बेंगलुरु, 12 सितम्बर (आईएएनएस)। कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार ने अपनी रसोई से शूट किया गया एक वीडियो जारी किया है, जिसमें सरकार से एलपीजी गैस सिलेंडर की कीमत कम से कम 150 रुपये कम करने का आग्रह किया है। उन्होंने पूछा कि क्या सरकार चाहती है कि माता-पिता स्कूल बैग खरीद लें या सभी पैसे एलपीजी सिलेंडर पर खर्च करें।

प्रदेश प्रमुख भाजपा की जनविरोधी नीतियों का विरोध करते हुए अपने साप्ताहिक ओंदु प्रश्न (एक प्रश्न) के माध्यम से जागरूकता फैला रहे हैं। शिवकुमार ने लोगों की राय भी मांगी और उन्होंने फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए जवाब देने को कहा है। यह वीडियो शनिवार शाम जारी किया गया।

Bansal Saree

पिछले सप्ताह शुरू हुई अपनी ओंडु प्रश्न सिरीज के माध्यम से शिवकुमार रसोई गैस की कीमत का मुद्दा उठाने की कोशिश कर रहे हैं।

शिवकुमार ने कहा कि एलपीजी की कीमतों में बढ़ोतरी ने न केवल गरीबों को बल्कि मध्यम वर्ग, विशेषकर गृहिणियों को भी प्रभावित किया है। उन्होंने अपनी चिंताओं को सोशल मीडिया के माध्यम से साझा किया और जनता से उनकी प्रतिक्रिया मांगी।

वर्तमान में एक एलपीजी सिलेंडर की कीमत करीब 900 रुपये है और बीदर जिले में शनिवार को इसकी कीमत 956 रुपये थी। यह कहा जा रहा है कि गैस सिलेंडरों की रिफिलिंग जल्द ही बढ़कर 1,000 रुपये हो सकती है।

शिवकुमार ने वीडियो में कहा, मैंने राज्य के विभिन्न हिस्सों का दौरा किया है और मैंने जीवन के सभी क्षेत्रों के लोगों के साथ बातचीत की है। हर बार जब भी मैं उनसे बात करता हूं, चाहे वे किसी भी आर्थिक वर्ग के हों, उन्हें एक ही मुद्दे का सामना करना पड़ता है। गरीब, मध्यम वर्ग और अमीर भी एलपीजी गैस की बढ़ती कीमतों का खामियाजा भुगत रहे हैं।

Devi Maa Dental

उन्होंने आगे कहा, जो लोग अपनी नौकरी खो चुके हैं वे अपनी जान ले रहे हैं क्योंकि उन्हें अपना जीवन जीना मुश्किल हो रहा है। ऐसी स्थिति में, सरकार कीमतों में वृद्धि जारी रख रही है। यह न केवल जनविरोधी नीति है, बल्कि अमानवीय भी है।

शिवकुमार ने कहा, उज्‍जवला योजना के कई लाभार्थी अब मूल्य वृद्धि के कारण लकड़ी के चूल्हे का उपयोग कर रहे हैं। विशेष रूप से गरीब और मध्यम वर्ग की महिलाओं को सिलेंडर भरने में समस्या हो रही है। इस समय रसोई गैस सिलेंडर की कीमत कम की जानी चाहिए। हमने न्यूनतम एलपीजी की कीमतों पर रोलबैक 150 रुपये की मांग की।

--आईएएनएस

एसएस/आरजेएस