ईस्टर संडे विस्फोट मामले को यूएनएचआरसी में उठाएगा श्रीलंका का कैथोलिक चर्च

कोलंबो, 9 सितम्बर (आईएएनएस)। श्रीलंका के कैथोलिक चर्च ने 2019 ईस्टर संडे बम धमाकों के लिए न्याय करने में सरकार की विफलता के खिलाफ जेनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) से शिकायत करने का संकल्प लिया है।
 | 
ईस्टर संडे विस्फोट मामले को यूएनएचआरसी में उठाएगा श्रीलंका का कैथोलिक चर्च कोलंबो, 9 सितम्बर (आईएएनएस)। श्रीलंका के कैथोलिक चर्च ने 2019 ईस्टर संडे बम धमाकों के लिए न्याय करने में सरकार की विफलता के खिलाफ जेनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) से शिकायत करने का संकल्प लिया है।

यूएनएचआरसी तमिल टाइगर विद्रोहियों के खिलाफ तीन दशक लंबे युद्ध के दौरान किए गए कथित युद्ध अपराधों पर श्रीलंका की भी जांच कर रहा है।

13 सितंबर से शुरू होने वाले यूएनएचआरसी के 48वें सत्र में श्रीलंका पर चर्चा होगी।

मुख्य पादरी (आर्कबिशप) मैल्कम कार्डिनल रंजीत ने बुधवार को मीडिया से कहा कि वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर न्याय मांगेंगे, क्योंकि सरकार सच्चाई को छिपाने की कोशिश कर रही है।

Bansal Saree

चर्च कैबिनेट के प्रवक्ता की उस घोषणा पर प्रतिक्रिया दे रहा था, जिसमें कहा गया था कि प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे गुरुवार को इटली जाएंगे और पोप फ्रांसिस से मुलाकात कर उन्हें बम विस्फोटों की जांच के बारे में जानकारी देंगे, जिसमें 269 लोग मारे गए थे और 500 से अधिक लोग घायल हो गए थे।

इसने बयान में कहा, सरकार वेटिकन को गुमराह करने और ईस्टर संडे हमले के पीछे की सच्चाई को छिपाने की कोशिश कर रही है। इंटरनेशनल स्तर पर पीछे छिपना बचकाना है।

कार्डिनल रंजीत ने कहा, हम इस सरकार को अंतरराष्ट्रीय समुदाय को धोखा देने की अनुमति नहीं दे सकते। अगर सरकार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जा रही है तो हम अंतरराष्ट्रीय स्तर भी जा रहे हैं।

Devi Maa Dental

कोलंबो महाधर्मप्रांत के प्रमुख ने खुलासा किया कि उन्होंने वेटिकन को जांच की धीमी गति के बारे में पहले ही सूचित कर दिया है और वेटिकन ने अपने प्रतिनिधि के माध्यम से जेनेवा में शिकायत करने का बीड़ा उठाया है।

हालांकि बुधवार को चर्च के कड़े जवाब के कुछ घंटों बाद, सरकार ने घोषणा की कि प्रधानमंत्री पोप से नहीं मिलेंगे और न ही वेटिकन सिटी जाएंगे।

विदेश मंत्री जी. एल. पीरिस ने एक बयान में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री ने किसी भी स्तर पर अनुरोध नहीं किया है और न ही उन्हें पोप से मिलने के लिए वेटिकन जाने का निमंत्रण मिला है।

पिछले महीने, चर्च ने शिकायत की थी कि श्रीलंका के सैन्य बुद्धिजीवियों के एक वर्ग के 2019 के आत्मघाती हमलावरों के साथ संबंध थे, जिनके इस्लामिक स्टेट आतंकी समूह के साथ संबंध होने का संदेह है।

कार्डिनल रंजीत ने सैन्य बुद्धिजीवी और आत्मघाती हमलावरों के बीच एक कथित संबंध के बारे में शिकायत की थी जो कि समन्वित आत्मघाती बम विस्फोटों की श्रृंखला में राष्ट्रपति जांच आयोग (पीसीओआई) के दौरान सामने आया था।

कार्डिनल ने यह भी कहा था कि भारतीय खुफिया एजेंसियों ने बार-बार तारीख सहित हमले के बारे में विस्तृत जानकारी साझा की, लेकिन श्रीलंकाई सेना ने नरसंहार को रोकने के लिए कार्रवाई नहीं की।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम